scriptSuccess story, Natural Farming, Vadodra, Farmer, Cow, animal husbandry | Gujarat News : नीति आयोग की पुस्तक में वड़ोदरा के दो किसानों की सफलता की कहानी | Patrika News

Gujarat News : नीति आयोग की पुस्तक में वड़ोदरा के दो किसानों की सफलता की कहानी

  • प्राकृतिक खेती के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने पर दिल्ली में राष्ट्रीय परिषद में हुए शामिल
  • प्राकृतिक खेती परिषद का आयोजन कर किया प्रोत्साहित

अहमदाबाद

Published: April 29, 2022 10:12:51 am

वडोदरा. केन्द्र सरकार के नीति आयोग की ओर से हाल में देश भर के सभी राज्यों में प्राकृतिक खेती को प्रोत्साहन देने के लिए राष्ट्रीय परिषद का आयोजन किया गया। इसमें देश के सफल प्राकृतिक कृषकों में गुजरात के 10 समेत वडोदरा जिले के दो किसानों का समावेश किया गया। वडोदरा के इन दो किसानों को कार्यक्रम में नई दिल्ली आमंत्रित करने के साथ इनकी सफलता की कहानी को पुस्तक में स्थान दिया गया है।

Gujarat News : नीति आयोग की पुस्तक में वड़ोदरा के दो किसानों की सफलता की कहानी
Gujarat News : नीति आयोग की पुस्तक में वड़ोदरा के दो किसानों की सफलता की कहानी
जिले की शिनोर तहसील के बावलिया गांव के वनराजसिंह और विक्रम राष्ट्रीय परिषद में भाग लेकर प्राकृतिक खेती का वर्तमान और नए प्रवाहों की जानकारी प्राप्त कर वहां से वापस लौटने पर कार्यक्रम के संबंध में बताया। आत्मा संस्था के माध्यम से नीति आयोग ने देश के विभिन्न राज्यों के प्राकृतिक खेती में उत्कृष्ट उदाहरण पेश करने वाले किसानों की गाथा एकत्रित किया।
Gujarat News : नीति आयोग की पुस्तक में वड़ोदरा के दो किसानों की सफलता की कहानीवनराजसिंह ने बताया कि चयनित किसानों को इस सम्मेलन में बुलाया गया था। इन सभी किसानों की सफल गाथा को संग्रहित कर विशाल पुस्तक बनाया गया है। इस कार्यक्रम में पुस्तक विमोचन किया गया। उन्होंने कहा कि गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत जो कि इस प्राकृतिक खेती के एक प्रबल समर्थक है, उनकी प्रेरणा और प्रयासों से प्राकृतिक खेती को व्याप दिया जा रहा है। वहीं सुभाष पालेकर, जिन्होंने गाय के गोबर और मूत्र का उपयोग करके 30 एकड़ भूमि में प्राकृतिक खेती को संभव बनाया। आयोजन में प्राकृतिक रूप से गाय पालन के महत्व पर मार्गदर्शन दिया गया।

Gujarat News : नीति आयोग की पुस्तक में वड़ोदरा के दो किसानों की सफलता की कहानीगुजरात में प्राकृतिक कृषि और गुजरात गाय पालन योजना को प्रोत्साहित किया गया, जिसकी वजह से देश के विभिन्न राज्यों ने भी इस योजना में बहुत रुचि दिखाई और इसे लागू करने के लिए तत्परता दिखाई। शिविर में केन्द्र सरकार के कृषि सं संबंधित विीाागों के मंत्री, सचिव उपस्थित रहे। 
वहीं पांच राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने इसमें वर्चुअल सहभागिता की। कार्यक्रम में देश के आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों में प्राकृतिक खेती को प्रोत्साहित करने समेत रासायनिक खाद के विकल्प के तौर पर प्राकृतिक खेती में आगे बढऩे को लेकर विमर्श किया गया। इसके अलावा उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्रियों ने गंगा और नर्मदा नदी के दोनों छोर पर 5-5 किलोमीटर के दायरे में प्राकृतिक खेती विकसित करने और लोकमाता को निर्मल रखने की रूपरेखा प्रस्तुत की।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

राजस्थान में इंटरनेट कर्फ्यू खत्म, 12 जिलों में नेट चालू, पांच जिलों में सुबह खत्म होगी नेटबंदीनूपुर शर्मा पर डबल बेंच की टिप्पणियों को वापस लिया जाए, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के समक्ष दाखिल की गई Letter PettitionENG vs IND Edgbaston Test Day 1 Live: ऋषभ पंत के शतक की बदौलत भारतीय टीम मजबूत स्थिति मेंMaharashtra Politics: महाराष्ट्र बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने देवेंद्र फडणवीस के डिप्टी सीएम बनने की बताई असली वजह, कही यह बातजंगल में सर्चिंग कर रहे जवानों पर नक्सलियों ने की फायरिंगपंचायत चुनाव: दो पुलिस थानों ने की कार्रवाई, प्रत्याशी का चुनाव चिन्ह छाता तो उसने ट्राली भर छाता बंटवाने भेजे, पुलिस ने किए जब्तMonsoon/ शहर में साढ़े आठ इंच बारिश से सडक़ों पर सैलाब जैसा नजारा, जन जीवन प्रभावित2 जुलाई को छ.ग. बंद: उदयपुर की घटना का असर छत्तीसगढ़ में, कई दलों ने खोला मोर्चा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.