टोसिलजुमैब एवं रेमडिसिविर इन्जेक्शन की कालाबाजारी का पर्दाफाश

कोरोना के लिए उपयोगी हो रहे...
सूरत एवं अहमदाबाद से 15 लाख से अधिक कीमत के इन्जेक्शन जब्त
बांग्लादेश से मंगाए जाते थे रेमडेसिविर इन्जेक्शन

By: Omprakash Sharma

Updated: 24 Jul 2020, 10:03 PM IST

अहमदाबाद. कोरोना वायरस के लिए उपयोगी हो रहे टोसिलजुमैब एवं रेमडिसिविर इन्जेक्शन की कालाबाजारी का पर्दाफाश किया गया है। सूरत एवं अहमदाबाद से इस पूरी कालाबाजारी का नेटवर्क चलाया जा रहा था। इस तरह के सौ से अधिक इन्जेक्शन भी बरामद किए गए हैं। अन्तराष्ट्रीय स्तर पर यह कालाबाजारी की जा रही थी। इसके तार बांग्लादेश से जुड़े हुए हैं। जहां से अवैध रूप से इन्जेक्शन अहमदाबाद सूरत समेत विविध जगहों पर पहुंचाए जा रहे थे।
राज्य के फूड एवं ड्रग विभाव ने यह पर्दाफाश किया है। विभागायुक्त डॉ. एच.जी कोशिया के अनुसार अहमदाबाद के मेडिकल रिप्रजेन्टिव (एम.आर.) ने सूरत में एक व्यक्ति के साथ मिलकर यह नेटवर्क खड़ा किया था। इस संबंध में सूचना मिलने पर सूरत खाद्य एवं औषध विभाग की टीम ने सूरत में 4.65 लाख कीमत के टोसिलजुमैब एवं रेमडिसिविर इन्जेक्शन जब्त किए। जिसके आधार पर की गई पूछताछ में इस बड़ी कालाबाजारी का पर्दाफाश हुआ।
सूरत से मिली जानकारी के आधार पर गत 21 जुलाई को अहमदाबाद के वापुर क्षेत्र स्थित इन्द्रप्रस्थ टावर निवासी एवं एक दवा कंपनी में एमआर संदीप माथुकिया नामक व्यक्ति से पूछताछ की गई। जिसमें सामने आया है कि संदीप माथुकिया ने सूरत निवासी यश माथुकिया के साथ मिलकर अवैध रूप से रेमडिसिविर इन्जेक्शन का व्यापार शुरू किया, जो मनमानी कीमत से जरूरतमंदों को इन्जेक्शन की सप्लाई करता था। सूरत का यश नामक व्यक्ति प्रति इन्जेक्शन पर 18 हजार रुपए कमाता था। रेमडिसिविर इन्जेक्शन के लेबल पर बंग्लादेश निर्मित होने की पुष्टि मिली है। जबकि टोसिलजुमैब इन्जेक्शन के संबंध में पता किया जा रहा है।

गोरखधंधे का मुख्य सूत्रधार है संदीप
अमहदाबाद निवासी संदीप माथुकिया इस गोरखधंधे का मुख्य सूत्रधार बताया जा रहा है। अहमदाबाद की फूड एवं ड्रग विभाग की टीम ने संदीप को हिरासत में लेकर पूछताछ की। विविध जगहों से रेडमिसिविर के 99 इन्जेक्शन जब्त भी किए गए हैं। संदीप के अनुसार अहमदाबाद में दर्शन सोनी एवं पार्थ गोयाणी नामक व्यक्तियों के साथ इन्जेक्शन सप्लाई का अवैध नेटवर्क तैयार किया था।इनके पास से मिले इन्जेक्शनों की कीमत 10.80 लाख रुपए आंकी गई है।

बंाग्लादेश से अगरतला मंगाते थे इन्जेक्शन

पूछताछ में सामने आया है कि इन दिनों कोरोना के लिए संजीवनी का काम कर रहे रेमडिसिविर इन्जेक्शन को अवैध रूप से बांग्लादेश से मंगाकर अहमदाबाद लाया जाता था। संदीप माथुकिया नामक आरोपी ने कबूल किया है कि त्रिपुरा के अगरतला तक बंाग्लादेश के शब्बीर अहमद नामक व्यक्ति से इन्जेक्शन मंगाए जाते थे। जिसके बाद संदीप खुद अगरतला जाता था और इन्जेक्शन लेकर आता था। इसके बाद अपने सहोयगी पार्थ एवं दर्शन सोनी के साथ मिलकर राज्य के अलग अलग जगहों पर अवैध सप्लाई कर मनमांगे दाम वसूलते थे। इन्जेक्शन के नमूने लेकर जांच को भेजे गए हैं। इस संबंध में जांच की जा रही है।

Omprakash Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned