Gujarat heavy vehicles : भारी वाहनों के लाइसेंस के लिए अब ट्रैक टेस्ट अनिवार्य


-अहमदाबाद के बावला, सूरत, राजकोट, गोधरा व कच्छ में बनेंगे टेस्ट ट्रैक

By: Uday Kumar Patel

Published: 21 Aug 2019, 03:48 PM IST

 

गांधीनगर. दुपहिया वाहनों और चौपहिया वाहनों के लिए लाइसेंस प्राप्त करना अब तक अनिवार्य था, लेकिन अब भारी वाहनों (हेवी व्हीकल) के लिए भी ट्रैक टेस्ट देना अनिवार्य किया गया है। इसके लिए राज्य के परिवहन विभाग ने तैयारी शुरू कर दी है।
पायलट प्रोजेक्ट के रूप में राज्य में 4 से 5 भारी वाहनों के टेस्ट ट्रैक बनाए जाने हैं। राज्य सरकार ने अहमदाबाद के बावला, राजकोट, कच्छ गोधरा और सूरत में ऐसे टेस्ट ट्रैक बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। इस पायलट प्रोजेक्ट की सफलता के आधार पर राज्य भर के आरटीओ कार्यालय में विशेष रूप से भारी वाहनों के लिए टेस्ट ट्रैक बनाया जाएगा।
भारी वाहनों में बस, ट्रक, ट्रेलर जैसे वाहन चलाने के लिए लाइसेंस को लेकर परीक्षा ली जाएगी और टेस्ट की परीक्षा अनिवार्य की जाएगी। टेस्ट टै्रक पूूरी तरह से कंप्यूटर संचालित रहेगा।
राज्य सरकार भारी वाहनों के लाइसेंस प्राप्त करने की पद्धति में बड़े पैमाने पर बदलाव ला रही है। सडक़ों पर भारी वाहनों से होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने के लिए भारी वाहनों का लाइसेंस प्राप्त करने को ट्रैक टेस्ट अनिवार्य बनाया गया है। सूूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य सरकार भारी वाहनों को लेकर जल्द ही नई नीति की घोषणा करने वाली है। इसके तहत यह टेस्ट ट्रैक बनाया जा रहा है। आने वाले दिनों में भारी वाहनों का लाइसेंस प्राप्त करना कठिन होगा, हालांकि सुरक्षा के हिसाब से यह लाइसेंस दीर्घकालीन रूप से फायदेमंद होगा।

 

Uday Kumar Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned