राजकोट. गुजरात सरकार की ओर से शुरू किए गए वांचे गुजरात अभियान को सार्थक करते हुए राजकोट में एक अनोखा विवाह समारोह आयोजित हुआ। इसमें बैलगाड़ी भरकर किताबें भेंट में दी गई।
जानकारी के अनुसार राजकोट निवासी प्रवीणसिंह जाड़ेजा की पौत्री व एक हाईस्कूल के प्राचार्य हरदेवसिंह जाड़ेजा की पुत्री किन्नरीबा के पुस्तकों से प्रेम के चलते विवाह के बाद विदार्ई की बेला को यादगार बना दिया गया। विभिन्न पुस्तक मेलों में खरीदी गई हिन्दी, गुजराती, अंग्रेजी के अलावा संस्कृत भाषा में 22 सौ किताबें एक बैलगाड़ी में भरकर विदाई के दौरान भेंट में दी गई।
इनमें गोस्वामी तुलसीदास व वेदव्यास से सूरदास, भारतेन्दु हरिशचंद्र, जयशंकर प्रसाद, महादेवी वर्मा, प्रेमचंद, दिनकर, मैथिलीशरण गुप्त, ओशो रजनीश के अलावा हिन्दी के आधुनिक साहित्यकारों, अंग्रेजी में सेक्सपीयर, मिल्टन से चेतन भगत, संस्कृत में वेदव्यास से हर्षदेव माधव की किताबें शामिल हैं।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned