भीड़ में भी अपराधी को पहचान लेगी इजराइली तकनीक

भीड़ में भी अपराधी को पहचान लेगी इजराइली तकनीक

Gyan Prakash Sharma | Publish: Sep, 02 2018 03:38:34 PM (IST) Ahmedabad, Gujarat, India

जन्माष्टमी मेला शुरू, इजराइल की इंटेलीजेंट पेट्रोलिंग सिस्टम का उपयोग, विशेष यूनिट से अपराधियों का चेहरे व आवाज पहचान सकेंगे

राजकोट. शहर पुलिस ने मेले में होने वाले अपराधों को रोकने व शंकास्पद आरोपियों को खोजने के लिए नई पद्धति अपनायी है, जिसका नाम है इंटेलीजेंट पेट्रोलिंग सिस्टम। सुरक्षा प्रणाली में अव्वल इजराइल में अपनायी जाने वाले इंटेलीजेंट पेट्रोलिंग सिस्टम का भारत में पहली बार राजकोट मेले में उपयोग हो रहा है। बताया गया है कि मुख्यमंत्री विजय रुपाणी की प्रथम विदेश यात्रा में यह उपलब्धि इजराइल से प्राप्त की गई है।
शहर पुलिस आयुक्त मनोज अग्रवाल के अनुसार मुख्यमंत्री कुछ समय पहले गुजरात के अधिकारियों की टीम के साथ इजराइल के दौरे पर गए थे, जिसमें सुरक्षा-व्यवस्था के लिए अलग-अलग आधुनिक टेक्नोलॉजी की उपयोगिता के मामले में जानकारी हासिल की।
दौरे से लौटने के बाद मुख्यमंत्री ने एक ऐसी टेक्नोलॉजी गुजरात राज्य में अमल करने का तय किया था, जिससे लोगों की सुरक्षा-व्यवस्था अधिक मजबूत बने। इसके लिए पुलिस पेट्रोलिंग में प्रभावी होने वाली इंटेलीजेंट पेट्रोलिंग सिस्टम को राजकोट के जन्माष्टमी मेले में प्रायोगिक स्तर पर अमल में करने का तय किया गया है।


यह है इंटेलीजेंट पेट्रोलिंग सिस्टम :
इस सिस्टम में आरोपियों के फोटो व आवाज के नमूने लगाए गए हैं। गश्त में तैनात पुलिस अधिकारी अपने गणवेश पर इंटेलीजेंट पेट्रोलिंग यूनिट को लगाते हैं। वह कैमरा बड़ी संख्या में एकत्रित लोगों की भीड़ में भी रेंज में आने वाले आरोपी का चेहरा सरलता से पहचान लेता है और मैसेज कंट्रोल रूम को भेज देता है। कंट्रोल रूम चेहरा देखकर उसका शंकास्पद हुलिया गश्त में तैनात अधिकारी को बताएगा और अधिकारी शंकास्पद व्यक्ति से पूछताछ करेगा। यूनिट में फीड किए गए डेटा से शंकास्पद व्यक्ति की आवाज पहचानकर उस अपराधी व्यक्ति की जानकारी देगा, जिसके कारण पुलिस अधिकारी आरोपी को पकड़ सकेंगे। इस सिस्टम के प्रयोग से भीड़ में पेट्रोलिंग दौरान अपराधी, हिस्ट्रीशीटर या फरार आरोपियों को सरलता से पकड़ा जा सकेगा।

शिक्षा मंत्री ने किया उद्घाटन
राजकोट. सौराष्ट्र का गोरस लोक मेले (जन्माष्टमी मेला) का शनिवार शाम को प्रारंभ हुआ, जो पांच दिनों तक चलेगा। राजकोट के प्रभारी व शिक्षा मंत्री भूपेन्द्र सिंह चुडास्मा ने सुबह रिमझिम के बीच मेले का उद्घाटन किया। जिला प्रशासन की ओर से शहर के रेस कोर्स मैदान पर शुरू किए गए मेले का करीब ८ से १० लाख लोग लुत्फ उठाते हैं, जिसकों देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था के कड़े इंतजाम किए गए हैं। पुलिस आयुक्त मनोज अग्रवाल की अगुवाई में १० एसीपी, ३७ पुलिस निरीक्षक (पीआई), ११२ उप निरीक्षक (पीएसआई), एएसआई, पुलिस कांस्टेबल, एसआरपी की ४ कम्पनी, ४०० होमगार्ड, १०० महिला जीआरडी सहित ३ हजार कर्मचारी सुरक्षा व्यवस्था में तैनात किए गए हैं। बारिश के दौरान मैदान में कीचड़ नहीं हो, इसके लिए रेती-कपची बिछाई गई है, लेकिन पहले दिन ही बारिश होने से मैदान में कीचड़ हो गया।


चार दरवाजे, प्लास्टिक मुक्त मेला :
मेले में चार मुख्य प्रवेशद्वारों पर श्रीकृष्ण नाम दिया गया है। रेसकोर्स में ७२ हजार वर्गमीटर में मेले का आयोजन किया गया है, जिसमें ४४ चकरी, मौत का कुआं, जादूगर, खिलौनों के २०० स्टॉल, आइसक्रीम के १६ स्टॉल व खाने-पीने के स्टॉल और हस्तकला उद्योग एवं सेल्फी जोन की व्यवस्था की गई है।
पहली बार मेला प्लास्टिक मुक्त रहेगा। गोरस मेले में विभिन्न प्रकार के ३४७ स्टॉल हैं।

Ad Block is Banned