वडोदरा का पारेश्वर महादेव मंदिर, हर वर्ष एक धागे की बराबर उत्तर की ओर बढ़ता है शिवलिंग

पेड़-पौधे भी खिसकते हैं मंदिर के साथ

By: Gyan Prakash Sharma

Published: 03 Mar 2019, 10:56 PM IST

वडोदरा. हर मंदिर का अपना एक अलग ही महत्व होता है। कुछ इसी प्रकार का एक शिवालय वडोदरा में है। पौराणिक कथाओं के अनुसार यह शिवलिंग हर वर्ष महाशिवरात्रि को एक धागे की बराबर उत्तर की ओर बढ़ता है। इतना ही नहीं, अपितु मंदिर के साथ-साथ उनकी ओर झुके पेड़-पौधे भी उत्तर की खिसकते हैं।
यहां बात हो रही हैं, वडोदरा के गोत्री गांव के तालाब के बीच स्थित पारेश्वर महादेव मंदिर की। यहां पर गोल शिवालय की बजाय त्रिकोणाकार का स्वयंभू प्रगट हुए शिवलिंग हैं, जिसमें ब्रह्मा, विष्णु व महेश विराजमान होने का माना जाता है। मंदिर के चारों ओर सभी प्रकार के घने पेड़-पौधे हैं।
बताया जाता है कि पूर्व गायकवाड़ सरकार के राज में तालाब की खुदाई गई थी, जिसमें शिवलिंग मिले थे। पौराणिक स्थल होने से यहां पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु उमड़ते हैं।
पौराणिक कथाओं के अनुसार वनवास के दौरान पांडव भी इस मंदिर से गुजरे थे।

Gyan Prakash Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned