वडोदरा : तीन अवार्ड हासिल करने वाले पिसाई गांव के स्कूल में कमरों का अभाव

वडोदरा : तीन अवार्ड हासिल करने वाले पिसाई गांव के स्कूल में कमरों का अभाव

Gyan Prakash Sharma | Updated: 14 Jul 2019, 04:19:19 PM (IST) Ahmedabad, Ahmedabad, Gujarat, India

स्कूल परिसर में पढ़ रहे विद्यार्थी, स्कूल के नवीनीकरण का कार्य जारी

वडोदरा. श्रेष्ठ स्कूल व स्वच्छ स्कूल का तीन बार अवार्ड हासिल करने वाले जिले की डभोई तहसील के पिसाई गांव के स्कूल में कमरों के अभाव में फिलहाल विद्यार्थियों को स्कूल परिसर में बैठकर पढऩा पड़ रहा है। इस स्कूल की नई इमारत बन रही है, ऐसे में बारिश के मौसम में बच्चों को बाहर ही पढऩे को मजबूर होना पड़ रहा है।
जानकारी के अनुसार पिसाई गांव में कक्षा एक से आठवीं तक के बालकों के लिए वडोदरा जिला शिक्षा समिति संचालित स्कूल की स्थापना वर्ष १९०६ में की गई थी। इस स्कूल की इमारत नई बन रही है। ऐसे में यहां पढऩे वाले १०५ विद्यार्थियों को स्कूल परिसर में बैठकर ही पढऩा पड़ता है। फिलहाल मानसून के दौरान बारिश होती है तो विद्यार्थियों को स्कूल स्थित एक ही कमरे में बैठना पड़ता है।


५ वर्षों से जर्जर थी इमारत :
इस स्कूल को वर्ष १९९२ एवं २००६ में राज्य सरकार की ओर से श्रेष्ठ स्कूल का अवार्ड व वर्ष २०१७ में स्वच्छ स्कूल का अवार्ड मिल चुका है, लेकिन स्कूल की इमारत पिछले ५ वर्षों से जर्जर होने के कारण वडोदरा शिक्षा समिति की ओर से नई इमारत बनाई जा रही है। स्कूल में नए पांच कमरों वाली इमारत बन रही है। ऐसे में पिछले तीन महीनों से विद्यार्थियों को परिसर में बैठकर पढऩा पड़ रहा है।


दो-तीन महीने में बन जाएगी इमारत :
सरकार की ओर से स्कूल की इमारत बनाई जा रही है। प्राथमिक चरण में विद्यार्थियों के लिए कोई कमरे आवंटित नहीं किए गए, जिसके कारण स्कूल परिसर में बैठकर पढऩा पड़ रहा है। दो-तीन महीने में निर्माण कार्य पूर्ण हो जाएगा। ऐसे में तब तक कोई प्राथमिक सुविधा के लिए कमरे लेने का प्रयास किया जा रहा है।
-सर्वोदय पाटीदार-प्राचार्य

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned