सुप्रीम कोर्ट के मार्गदर्शन में गुजरात की अदालतों में बनेंगे संवेदनशील गवाह बयान केन्द्र: जस्टिस शाह

सुप्रीम कोर्ट के मार्गदर्शन में गुजरात की अदालतों में बनेंगे संवेदनशील गवाह बयान केन्द्र: जस्टिस शाह
सुप्रीम कोर्ट के मार्गदर्शन में गुजरात की अदालतों में बनेंगे संवेदनशील गवाह बयान केन्द्र: जस्टिस शाह

Uday Kumar Patel | Updated: 06 Oct 2019, 06:01:00 PM (IST) Ahmedabad, Ahmedabad, Gujarat, India

-District level court, Vulnerable witness depostion centre, Gujarat, SC judge M R Shah

अहमदाबाद. सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश एम आर शाह ने कहा कि हत्या, बलात्कार व अन्य अपराधों में गवाह के रूप में महिला और बालक बिना डरे व खुले ढंग से अपनी गवाही देने के उद्देश्य से सुप्रीम कोर्ट के दिशानिर्देश में गुजरात के जिला स्तर की अदालतों में इस प्रकार के संवेदनशील गवाह बयान केन्द्र (वल्नेरेबल विटनेस डिपोजिशन सेन्टर) बनाए जाएंगे।
रविवार को गांधीनगर जिला अदालत में गुजरात उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश विक्रम नाथ के साथ संवेदनशील गवाह बयान केन्द्र (वल्नेरेबल विटनेस डिपोजिशन सेन्टर) के लोकार्पण के अवसर पर उन्होंने यह बात कही।
न्यायाधीश शाह के मुताबिक हाल ही में राज्य की पांच जिला अदालतों-सूरत, वडोदरा, गोधरा, गांधीनगर व अहमदाबाद-में इस प्रकार के गवाह बयान केन्द्र का निर्माण किया गया है। अहमदाबाद में यह केन्द्र जल्द ही आरंभ होगा।
उन्होंने कहा कि बलात्कार, हत्या व अन्य अपराधों में महिलाएं व बच्चे गवाह होते हैं, ऐसे में वे अपनी गवाही मुक्त ढंग से नहीं दे सकते, उनके चेहरे पर डर का भाव रहता है, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के दिशानिर्देश के तहत गुजरात में जिला स्तर की सभी अदालतों में इस प्रकार का संवेदनशील गवाह बयान केन्द्र के निर्माण की योजना बनाई गई है।
जस्टिस शाह के अनुसार इस केन्द्र में गवाही देने वाले को कोर्ट रूम का अनुभव नहीं होता है इस कारण महिला व बच्चे खुले ढंग से गवाह की भूमिका अदा कर सकेंगे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned