रूपाणी का कांग्रेस पर प्रहार.. जब राजीव थे पीएम, तब कांग्रेस ने क्यों नहीं किया भ्रष्टाचार पर प्रदर्शन?

-गुरुवार से राज्यव्यापी गरीब मेला आरंभ

By: Uday Kumar Patel

Published: 03 Jan 2019, 10:49 PM IST

 

अहमदाबाद. मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने गुरुवार से आरंभ हुए राज्यव्यापी गरीब मेले ेमेंं कांग्रेस पर निशाना साधा। पोरबंदर में आयोजित गरीब मेले में उन्होंने भ्रष्टाचार को लेकर दुष्प्रचार कर धरना दे रही कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि पहले कांग्रेस के शासन में उनके प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने यह स्वीकार किया था कि दिल्ली से गरीबों के लिए भेजा जाने वाला एक रुपया गरीब तक पहुंचते 15 पैसा हो जाता है।
इतना व्यापक भ्रष्टाचार तब चलता था, ऐसा खुद कांग्रेस के तत्कालीन प्रधानमंत्री ने स्वीकारा था, तब इन कांग्रेस वालों के मुंह क्यों सिल गए थे? तब भ्रष्टाचार के खिलाफ धरना या आंदोलन करने का उन्हें क्यों नहीं सूझी?
उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार पारदर्शिता और संवेदनशीलता के साथ भ्रष्टाचार रहित सुशासन दे रही है। राज्य की सरकार ने गैर कृषि (एन.ए.) में भ्रष्टाचार दूर करते हुए इसे ऑनलाइन एन.ए. किया, इसका भी कांग्रेस शासित जिला पंचायत भी विरोध कर रही है क्योंकि इससे कांग्रेस के भ्रष्टाचार की दुकानें बंद हो जानी है।
रूपाणी ने कहा कि गुजरात की सरकार गरीबों को उनके हक दे रही है, कोई दान नहीं कर रही। यह सरकार गरीबों की उंगली पकडक़र उनके विकास के अवसर देने को कार्यरत है।
उन्होंने कहा कि गरीब कल्याण मेला बिचौलिया मिटाओ मेला बना है। कांग्रेस के शासनकाल में फले-फूले भ्रष्टाचार को खत्म कर गरीब के हाथ में सीधे ही रकम का लाभ दिया है।

मेले में 3414 लाभार्थियों को 161 करोड़ के किट का वितरण किया गया। राज्य के 33 जिलों में 39 गरीब कल्याण मेले आयोजित किए जाएंगे।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने पोरबंदर-राणावाव-कुतियाणा इलाके के पीने के पानी की समस्या के निवारण के लिए 64 किलोमीटर लंबी बल्क पाइपलाइन योजना का शिलान्यास किया। जल बचाओ अभियान के तहत घर के पानी की बजट पुस्तिका का विमोचन भी किया। इस अवसर पर सीएम ने पोरबंदर के दो बच्चों को जलदूत के रूप में जल बचाओ अभियान का एम्बेसेडर नियुक्त किया।

Congress
Uday Kumar Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned