कच्छ में बनेगा दुनिया का सबसे बड़ा हाईब्रिड नवीकरणीय ऊर्जा पार्क

भारत-पाकिस्तान की अंतरराष्ट्रीय सीमा के समीप रण में30 गीगा वॉट होगी क्षमता

पीएम मोदी ने खावडा के धर्मशाला में बनने वाले पार्क का धोरडो से किया ई-शिलान्यास

By: Rajesh Bhatnagar

Published: 16 Dec 2020, 12:15 AM IST

भुज. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत-पाकिस्तान की अंतरराष्ट्रीय सीमा के समीप कच्छ जिले के खावडा में धर्मशाला के निकट रण में बनने वाले दुनिया के सबसे बड़े 30 गीगा वॉट क्षमता के हाईब्रिड नवीकरणीय ऊर्जा पार्क का मंगलवार को शिलान्यास किया।
कच्छ जिले के सफेद रण धोरडो में आयोजित मुख्य समारोह में मोदी ने ऊर्जा पार्क की नाम पट्टिका का ई-शिलान्यास किया। धर्मशाला के समीप 72,600 हेक्टेयर जमीन पर बनने वाले इस ऊर्जा पार्क में पवन, सौरऔर ऊर्जा संग्रह के लिए समर्पित हाईब्रिड पार्क बनेगा।
प्रधानमंत्री मोदी की ओर से वर्ष 2030 तक 450 गीगा वॉट बिजली उत्पादन के निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करने के तहत कच्छ जिले में 30 गीगा वॉट का हाईब्रिड पार्क बनाया जाएगा। इसमें विंड पार्क गतिविधियों के लिए भी एक विशेष क्षेत्र होगा। यह पार्क बिजली उत्पन्न करने की कुल लागत को कम करने में अहम भूमिका निभाएगा।
इसके साथ ही इस पार्क से रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे और उच्च स्तर वाले ट्रांसमिशन कॉरिडोर भी स्थापित हो सकेंगे। यह अपनी तरह का पहला नवीकरणीय ऊर्जा पार्क होगा, जिसमें विभिन्न प्रकार के नवीकरणीय ऊर्जा स्त्रोतों को विशेष क्षेत्र प्रदान किया जाएगा।

बंजर जमीन पर उत्पन्न होगी ऊर्जा

बंजर जमीन पर स्थापित किए जाने वाले इस हाईब्रिड नवीकरणीय ऊर्जा पार्क में ऊर्जा उत्पन्न की जाएगी। इसकी स्थापना के निर्णय के साथ ही गुजरात सरकार ने एक बार फिर से राज्य में नवीकरणीय ऊर्जा विकास के प्रति अपना समर्पण दर्शाया है। इससे पहले, गुजरात सरकार ने राज्य में बेकार व बंजर पड़ी सरकारी भूमि के आवंटन के लिए वर्ष 2019 में योजना बनाई थी।
इस पार्क से ना केवल गुजरात, बल्कि अन्य राज्यों को भी महत्वपूर्ण सामाजिक-आर्थिक लाभ होंगे। जिसका अन्य कोई उपयोग नहीं है, ऐसी बेकार व बंजर भूमि का नवीकरणीय ऊर्जा पार्क के लिए पूरी तरह से उपयोग, बिजली की कुल लागत में कमी, रोजगार सृजन, ट्रांसमिशन की आधारभूत संरचना और उच्च क्षमता वाले ट्रांसमिशन कॉरिडोर से भूमि का अधिकतम उपयोग किया जा सकेगा।

कोविड-19 की गाइडलाइन के अनुरूप यह अधिकारी रहे मौजूद

धर्मशाला में आयोजित कार्यक्रम में कोविड-19 की गाइडलाइन के अनुरूप जीएसईसीएल के प्रबंध निदेशक एम. प्रसन्न, पूर्व कार्यकारी निदेशक एच.एन. बक्षी, प्रोजेक्ट मुख्य अभियंता वाई.डी. ब्रह्मभट्ट, विशेषाधिकारी व गिर सोमनाथ जिले के आपूर्ति अधिकारी सुशील परमार, नखत्राणा के तहसीलदार वी.के. सोलंकी, पीजीवीसीएल के कार्यपालक अभियंता एम.के. वोरा आदि भी मौजूद थे।

Rajesh Bhatnagar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned