दुष्कर्म के दोषी को 5 साल का कठोर कारावास

एडीजे कोर्ट बाड़ी ने सुनाया फैसला, 10 हजार का अर्थदंड भी लगाया , बच्चे को जान से मारने की धमकी दी, महिला को चार माह बंधक बना किया था दुष्कर्म

यहां एडीजे कोर्ट ने एक मामले में बुधवार को फैसला सुनाते हुए महिला का अपहरण कर ले जाने, चार महीने तक बंधक बनाकर रखने और दुष्कर्म करने के साथ अबोध बालक को जान से मरने की धमकी देने के आरोप में आरोपी नारद प्रजापति को दोषी पाया है और उसे धारा 366, 376 में 5 वर्ष कठोर कारावास के साथ दस हजार के अर्थदंड से दंडित किया है।

 

By: Dilip

Published: 16 Sep 2021, 01:37 AM IST

बाड़ी. यहां एडीजे कोर्ट ने एक मामले में बुधवार को फैसला सुनाते हुए महिला का अपहरण कर ले जाने, चार महीने तक बंधक बनाकर रखने और दुष्कर्म करने के साथ अबोध बालक को जान से मरने की धमकी देने के आरोप में आरोपी नारद प्रजापति को दोषी पाया है और उसे धारा 366, 376 में 5 वर्ष कठोर कारावास के साथ दस हजार के अर्थदंड से दंडित किया है।

बाड़ी एडीजे कोर्ट के एपीपी एडवोकेट मनोज सिंह परिहार ने बताया कि 4 अप्रेल 2017 को बाड़ी कस्बे में लगने वाले माता के मेले में एक महिला अपने डेढ़ साल के बालक के साथ मेला देखने आई थी। किसी कारण से बच्चे को शौच कराने के दौरान वह साथ आई महिलाओं से बिछुड़ गई। ऐसे में अबोध बालक के साथ मेले में बदहवास घूमती महिला को जब आरोपी नारद ने देखा तो उसे भरोसा दिलाया और अपने साथ पास में एक चाय के खोखे पर ले गया। जहां आरोपी नारद पुत्र अमर सिंह प्रजापति ने उसे चाय में नशीला पदार्थ पिलाकर अचेत कर दिया और अपने साथ पहले हिंडोन लेकर पहुंचा। जहां एक रात रखने के बाद हरियाणा के पानीपत ले जाकर एक घर में बंधक बना लिया और किसी को बताने पर बालक को मारने की धमकी देता रहा। इस दौरान करीब चार महीने तक महिला आरोपी के चंगुल में रही। जहां उसे बंधक बनाकर दुष्कर्म किया गया और यातना भी दी गई। बाद में पति की शिकायत पर पीडि़त महिला को पुलिस ने मोबाइल लोकेशन के आधार पर पानीपत पहुंच बंधन मुक्त कराया था। जिसका मामला एडीजे कोर्ट में विचाराधीन था, बुधवार को एडीजे जमीर हुसैन ने उक्त मामले में फैसला सुनाते हुए आरोपी नारद प्रजापति को धारा 366 और 376 में पांच वर्ष के कठोर कारावास के साथ दस हजार के अर्थदंड से दंडित किया है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned