ज्यों ही दिखेगा बुलंद दरवाजे पर चढ़ेगा झंडा, शुरू हो जाएगा ख्वाजा साहब का 806 वां उर्स

ज्यों ही दिखेगा बुलंद दरवाजे पर चढ़ेगा झंडा, शुरू हो जाएगा ख्वाजा साहब का 806 वां उर्स

raktim tiwari | Publish: Mar, 14 2018 08:45:00 AM (IST) Ajmer, Rajasthan, India

दरगाह के बुलंद दरवाजे पर भीलवाड़ा के लाल मोहम्मद गौरी के पोते फखरूद्दीन झंडा चढ़ाने की रस्म अदा करेंगे।

रक्तिम तिवारी/अजमेर।

सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती के 806 वें उर्स का झंडा बुधवार साम दरगाह के बुलंद दरवाजे पर चढ़ाया जाएगा। भीलवाड़ा का गौरी परिवार यह रस्म अदा करेगा। इसके साथ ही 806वें उर्स की औपचारिक शुरुआत हो जाएगी।

उर्स विधिवत रूप से रजब का चांद दिखाई देने पर 18 या 19 मार्च से शुरू होगा। इससे पहले बुधवार को ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह के बुलंद दरवाजे पर भीलवाड़ा के लाल मोहम्मद गौरी के पोते फखरूद्दीन झंडा चढ़ाने की रस्म अदा करेंगे। गौरी परिवार 1944 से यह रस्म निभाता आ रहा है।

झंडे की रस्म के साथ उर्स की औपचारिक शुरुआत मानी जाती है। बुधवार से अकीदतमंद की आवक धीरे-धीरे बढ़ेगी। रजब का चांद दिखने के बाद उर्स विधिवत शुरू होगा। इसके साथ दरगाह में गरीब नवाज के अकीदतमंद की तादाद बढ़ती चली जाएगी। उर्स के दौरान विभिन्न रसूमात और कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा।

यूं निकलेगा झंडे का जुलूस

बरसों पुरानी परम्परानुसार ढोल-ताशे के बीच झंडे का जुलूस निकाला जाएगा। दरगाह के शाही कव्वाल असरार हुसैन और अन्य इसके आगे कलाम पेश करते चलेंगे। उर्स का झंडा विभिन्न मार्ग से होकर निजाम गेट, शाहजहांनी गेट होकर बुलंद दरवाजे तक पहुंचेगा। यहां गौरी परिवार झंडे को चढ़ाने की रस्म अदा करेगा। इसके साथ ही गरीब नवाज के उर्स की औपचारिक शुरूआत हो जाएगी।

होंगे विशेष कार्यक्रम

दरगाह में उर्स के दौरान विशेष कार्यक्रम होंगे। उर्स के दौरान एक से छह रजब तक महफिल होगी। इस दौरान दरगाह दीवान मजार शरीफ पर गुस्ल की रस्म अदा करेंगे। दरगाह स्थित जन्नती दरवाजा भी उर्स के दौरान खोला जाएगा। इसमें से जायरीन भी प्रवेश कर सकेंगे। उर्स के दौरान लंगर पकाने और तकसीम करने का काम भी होगा। मालूम हो कि दूर-दराज से आने वाले जायरीन लंगर को तबर्रुक के रूप में ले जाते हैं।

कलंदर पेश करेंगे छडिय़ां

महरौली से पैदल रवाना हुए कलंदर गंज स्थित चिल्ले पर ठहरेंगे। उर्स के दौरान वे अजमेर में ही रहेंगे। वे यहां से छडिय़ों का जुलूस निकालेंगे। इस दौरान कलंदर हैरतअंगेज करतब पेश करते चलेंगे। उर्स में छोटे कुल की रस्म के दौरान वे विभिन्न पारम्परिक रसूमात को अंजाम देंगे।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned