मेघा पानी बरसाते रहे, तभी कडक़ड़ाती आकाशीय बिजली गिरी तो आंखें चौंधिया गई,भय से कांप उठा शरीर

एक ओर मावठ रबी फसल के लिए एक ओर अमृत बन गई तो आकाशीय बिजली गिरने से काफी नुकसान भी हो गया, मवेशी बेमौत मारे गए तो कहीं विद्युत उपकरण फुंक गए,पेड़ झूलस गए।

By: suresh bharti

Published: 06 Jan 2021, 12:00 AM IST

ajmer अजमेर. प्रदेश में मावठ से रबी फसल को काफी लाभ मिला है। ओलावृष्टि से कोई खास नुकसान नहीं पहुंचा। बारिश से सेो अजमेर जिले में कोई नुकसान के समाचार नहीं हैं,लेकिन आकाशीय बिजली गिरने से कई मवेशियों की अकाल मौत हो गई। कहीं पेड़ झूलस गए तो कुछ जगह विद्युत उपकरण फुंक गए।

झुंझुनंू जिले में भी ऐसा ही हुआ। जिले में कड़ाके की ठंड में वृद्धि जरूर हो गई। अजमेर जिले के पीसांगन उपखंड मुख्यालय समेत देहात में डेढ़ दर्जन स्थानों पर आकाशीय बिजली गिरी। इस दौरान उपखंड क्षेत्र में 16 केवीए के 12 ट्रांसफार्मर खराब हो गए। इससे विद्युत वितरण निगम को करीब 12 लाख रुपए का नुकसान हो गया। इससे विद्युत सप्लाई बौधित रही।

मंगलवार शाम साढ़े 5 बजे तक बिजली शुरू हो गई,लेकिन ट्रिपिंग की शिकायतें रही। शिवपुरा गांव समीप पाली जिले की सीमा में आकाशीय बिजली गिरने से आधा दर्जन मवेशियों की मौत हो गई। बारिश से खेतों में जीरे, गेहूं, जौ, चना, सरसों, ईसबगोल आदि फसलों को लाभ पहुंचा है।

आधा दर्जन गाइड इंसुलेटर क्षतिग्रस्त

डिस्कॉम के सहायक अभियंता दुर्गा लाल देवत के अनुसार रात्रि में आसपास 16 केवीए के 12 ट्रांसफार्मरों समेत विद्युत तारों व गाइड इंसुलेटरों पर डेढ़ दर्जन स्थानों पर आकाशीय बिजली गिरी। इससे ट्रांसफार्मर खराब हो गए तो विद्युत तार टूट कर जमीन पर आ गिरे।

उन्होंने बताया कि पिचोलिया, रिछमालिया, मेवाडिय़ा, सरसड़ी व बुधवाड़ा, गोला व गोविंदगढ़ में ट्रांसफार्मर पर आकाशीय बिजली गिरी है। आधा दर्जन गाइड इंसुलेटरों पर भी बिजली गिरने के कारण तार जमीन पर टूटकर गिर गए व इंसुलेटर बिखर गए। उन्होंने बताया कि मंगलवार को कनिष्ठ अभियंता जगवीर सिंह यादव, सुधीर पाठक व नरेश बोहरा आदि की टीम दिनभर तंत्र को सुधारने में लगे रहे। शाम साढ़े 5 बजे आंशिक रूप से बिजली तंत्र सुधर गया। इसे बुधवार तक पूर्णतया दुरुस्त कर लिया जाएगा।

मवेशियों की गई जान

शिवपुरा से लगती पाली जिले की सीमा स्थित माताजी का खेड़ा में हुकुमसिंह रावत के बाड़े में रात्रि करीब 10 बजे गिरी आकाशीय बिजली गिर गई। इसमें 1 भैंस व उसकी बछड़ी के अलावा 4 बकरियों की मौत हो गई।

खेजड़ी के पेड़ पर गिरी बिजली

खरवा सहित आस-पास के क्षेत्र में हुई बारिश के साथ सोमवार रात रानीसागर के पास खेजड़ी के पेड़ पर आकाशीय बिजली गिरी। इससे पेड़ के परखच्चे उड़ गए। बिजली रानीसागर की आबादी से कुछ दूरी पर गिरी। इससे किसी प्रकार की हानि नहीं हुई। रानीसागर निवासी गोपाल सिंह ने बताया कि वर्षों पुराना खेजड़ी का पेड़ बिजली गिरने के बाद पूरी तरह से बिखर गया।

झुंझुनूं जिले में आकाशीय बिजली गिरी

पचलंगी/उदयपुरवाटी. बारिश से जहां फसलों में फायदा हुआ है। वहीं इलाके के छापोली गांव की ढाणी नया कुआं में आकाशीय बिजली गिरने से मकान में आग लग गई। पंचायत सहायक पूरण मल जाट ने जानकारी दी कि ढाणी के निवासी नेमीचंद यादव अध्यापक के घर पर आकाशीय बिजली गिरने से मकान में रखा सामान व नकदी जलकर राख हो गया।

चिरानी व ढाणी ढीमा में गिरी बिजली

खेतड़ी. तहसीलदार कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि हरडिय़ा ग्राम पंचायत के गांव ढाणी ढीमा में आकाशीय बिजली गिरने से होशियार सिंह की ऊंटनी की मौत हो गई। इसके अलावा चिरानी गांव में रतनलाल गुर्जर के मकान पर भी आकाशीय बिजली गिर गई। घर में विद्युत फिंटिंग व उपकरण जल गए तथा कमरे की दीवार में छेद हो गया।

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned