एसीबी की अजमेर में बड़ी कार्यवाही, भरतपुर में तैनात sub inspector के घर पर मारा छापा

एसीबी की अजमेर में बड़ी कार्यवाही, भरतपुर में तैनात sub inspector के घर पर मारा छापा

Sonam Ranawat | Publish: Mar, 14 2018 01:18:42 PM (IST) Ajmer, Rajasthan, India

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरों की टीम ने बुधवार सुबह भरतपुर में तैनात राजस्थान पुलिस के सब इंस्पेक्टर अर्पण चौधरी के आवास पर छापा मार कार्यवाही की।

 

 

अजमेर . भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरों की टीम ने बुधवार सुबह भरतपुर में तैनात राजस्थान पुलिस के सब इंस्पेक्टर अर्पण चौधरी के लोहाखान शिव भवन स्थित आवास पर छापा मार कार्यवाही की। प्रारम्भिक सूचना में अब तक दस हजार रूपए की नकदी घर से मिली है। टीम अभी भी जांच कर रही है। मकान और वाहनों की ली र्ताशी। प्रारंभिक सूचना में अब तक दस हजार रुपए की नकदी मिली।

 

बताया जा रहा है कि एसीबी ने ज्वैलरी तोलने के लिए वेट मशीन मंगवाई है इसके बाद ही उनके घर से मिले सोने चांदी के आभूषणों की जानकारी मिल पाएगी। सब इंस्पेक्टर अर्पण चौधरी करौली के रूपावास थाना प्रभारी हैं साथ ही पूर्व में भरतपुर के पहाड़ी थाना , अजमेर के बांदरसिंदरी , पुष्कर में भी तैनात रहे हैं।

 

चौधरी के आवास पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एसीबी अजमेर) सीपी शर्मा, मदनदान सिंह चारण, जयपुर एसीबी से चिरंजीलाल व एसीबी स्पेशल यूनिट के निरीक्षक पारसमल और सिविल लाइन्स थानाप्रभारी समेत एसीबी टीम मौजूद। टीम ने सब इंस्पेक्टर के घर और वाहनों की तलाशी ली।

 

 

खराब करना चाहता था नाबालिग की जिंदगी, मिली आजीवन कैद

 

अजमेर. एससी/ एसटी न्यायालय की न्यायाधीश बृजमाधुरी शर्मा ने मंगलवार को सुनाए एक फैसले में नाबालिग गर्भवती लड़की से दुराचार करने के अभियुक्त नीरज वैष्णव को आजीवन कारावास व 1.40 लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। अभियुक्त नीरज के खिलाफ पुलिस थाना अरांई में 20 दिसम्बर 2016 को रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। पुलिस अनुसंधान में पता चला कि नीरज पीडि़ता को उसके पिता की बीमारी का बहाना बनाकर अरांई से मोटरसाइकिल पर बैठाकर जयपुर ले गया जहां डरा धमकाकर दुराचार किया।

 

पुलिस ने आरोपित के खिलाफ अपहरण, बलात्कार व पोक्सो कानून के तहत मामला दर्ज किया था। जांच में सामने आया कि पीडि़ता की आयु 16 वर्ष 2 माह और छह माह की गर्भवती थी। अदालत में अभियोजन पक्ष की ओर से पैरवी वकील महेन्द्र चौधरी व पंकज जैन ने की। सात गवाह व 23 दस्तावेज पेश किए।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned