ACB TRAP: दोनों निलंबित सदस्यों का इंतजार, चैंबर से निकलेंगे राज

इन चैंबर्स में रखी अहम पत्रावलियां और कंप्यूटर डाटा जब्त किया। टीम इन सूचनाओं के अध्ययन और बिंदूवार रिपोर्ट बनाने में जुटी रही।

By: raktim tiwari

Published: 14 Apr 2021, 08:39 AM IST

अजमेर.

राजस्व मंडल घूसकांड की जांच जारी है। एसीबी की टीम जब्त पत्रावलियों और दस्तावेजों की पड़ताल में जुटी हुई है। टीम को दोनों निलंबित सदस्यों को अजमेर लाने का इंतजार है। इससे मंडल में सीज पड़े उनके चैंबर्स से घूसखोरी के राज बाहर निकलेंगे।

जांच अधिकारी और एसीबी एसपी समीर कुमार सिंह, एडिशनल एसपी सतनाम सिंह, उप अधीक्षक पारसमल और अन्य अधिकारियों की टीम घूसकांड की जांच में जुटी है। सोमवार को टीम ने मंडल अध्यक्ष डॉ. आर. वैंकटेश्वरन, सदस्य विनीता श्रीवास्तव, मनोज नाग के चैंबर्स और कॉज लिस्ट शाखा का कमरा खुलवाया। इन चैंबर्स में रखी अहम पत्रावलियां और कंप्यूटर डाटा जब्त किया। टीम इन सूचनाओं के अध्ययन और बिंदूवार रिपोर्ट बनाने में जुटी रही।

असली 'चैंबर खुलने बाकी....
निलंबित दोनों आरएएस अधिकारियों से एसीबी जयपुर में पूछताछ कर रही है। इन्हें दोबारा कोर्ट में पेश करने के बाद ही इनके चैंबर्स को खोले जाएंगे। एसीबी को दोनों के चैंबर्स कई राज खुलने की उम्मीद है। दोनों निलंबित सदस्यों द्वारा लिए गए फैसलों की पत्रावलियां, कंप्यूटर में स्टोर डाटा खंगालने पर लेन-देन का खेल उजागर हो सकेगा।

दस्तावेज-पत्रावलियों की पड़ताल
एसीबी अध्यक्ष सहित सदस्यों के चैंबर्स में पड़ी पत्रावलियों की पड़ताल में जुटी है। राजस्व मामलों से जुड़े कई दस्तावेज और पत्रावलियों का अध्ययन जारी है। एसीबी मामलों की गंभीरता और प्रकरण में जरूरत पडऩे के अनुसार और दस्तावेज जब्त करेगी। घूसकांड में लिप्त लोगों के अलावा उनसे जुड़ी कडिय़ों को भी खंगाला जाएगा।

राज्य में हो सकता है बड़ा नेटवर्क
तहसील, उपखंड, जिला स्तर के राजस्व मामलों की सुनवाई राजस्व मंडल में होती है। जिस तरह घूसकांड में सदस्यों और एक वकील की भूमिका सामने आई है उससे बड़े नेटवर्क की भागीदारी से इन्कार नहीं किया जा सकता है। नाम नहीं छापने की शर्त पर एसीबी अधिकारियों ने बताया कि राजस्व से जुड़े ज्यादातर प्रकरणों में वकील, सरकारी दफ्तरों के बाबू, भू-माफिया सहित कई लोग शामिल होते रहे हैं। पूछताछ के आधार पर राज्यभर में नेटवर्क को खंगाला जाएगा।

स्टोर पर भी एसीबी का फोकस
निलंबित सदस्यों और दलाल के बीच कोड वर्ड में भी घूसखोरी के बदले फैसले बदलने का खेल चलता था। दलाल के पास कैश और अन्य बहुमूल्य उपहारों की सुरक्षा की जिम्मेदारी थी। इसे स्टोर में रखा गया था। एसीबी दलाल से खास स्टोर को लेकर पूछताछ कर रही है।

न्यायिक कार्य होगा सुचारू
राजस्व मंडल में एसीबी ने कॉज लिस्ट सेक्शन के एक कमरे को खोल दिया है। एसीबी की सहमति के बाद अतिरिक्त निबंधक न्याय बी.एस.सांदू ने कार्मिकों को न्यायिक कार्य सुचारू करने के लिए कॉज लिस्ट तैयार करने के निर्देश जारी किए। अब मंडल में गुरुवार से मुकदमों की नियमित सुनवाई हो सकती है।


आवश्यकतानुसार दस्तावेज जब्त किए गए हैं। तलाशी अभियान जारी रहेगा। मामले में जिन-जिन साक्ष्यों की जरूरत होगी उन्हें चिह्नित कर सूचीबद्ध किया जाएगा। जयपुर मुख्यालय को दस्तावेज-पत्रावलियां सुपुर्द की गई हैं। जैसे-जैसे दस्तावेजों की जरूरत होगी मुख्यालय को उपलब्ध कराए जाएंगे।
समीर कुमार सिंह, जांच अधिकारी और एसपी एसीबी अजमेर

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned