एडीए ने सरकार को भेजा भूमि के बदले भूमि प्रकरण का जवाब

पृथ्वीराज नगर और डीडीपुरम योजना का अटका है विकास

जल्द हो सकती है बैठक

By: bhupendra singh

Published: 14 Apr 2021, 08:35 PM IST

अजमेर.अजमेर विकास प्राधिकरण ADA s ने नगरीय विकास विभाग को प्राधिकरण की पृथ्वीराज नगर prithviraj nagar योजना तथा डीडीपुरम dd puram योजना के विकास में बाधक बने भूमि के बदले भूमि (लैंड फॉर लैंड) के प्रकरणों को हल किए जाने के लिए टिप्पणी सहित जवाब भेजा है। विभाग के संयुक्त सचिव ने लैंड फॉर लैंड आवंटन समिति के प्रकरणों का मंत्रीगण की एम्पावर्ड कमेटी से अनुमोदन कराए जाने को लेकर प्राधिकरण से टिप्पणी सहित जवाब मांगा था। प्राधिकरण के अनुसार पृथ्वरीराज नगर योजना का अवार्ड 12 जुलाई 2005 को, डीडी पुरम योजना का अवार्ड 22 दिसम्बर 2009 को तथा चन्द वरदाई नगर का अवार्ड 6 अगस्त 1994 को जारी किया गया। अवार्ड में पृथ्वीराज नगर योजना एवं डीडी पुरम योजना के अवार्ड मिश्रित नकद (नकद राशि व भूमि के बदले भूमि) के थे एवं चंद्रवरदाई नगर योजना का अवार्ड नकद राशि का था। खातेदारों द्वारा नकद राशि प्राप्त करने में रूचि नहीं दिखाई गई वरन भूमि के बदले विकसित भूमि प्राप्त करने में ही रूचि दखिाई गई जिससे अवार्ड वितरण नहीं हो पाए। पृथ्वीराज नगर योजना में 9, डीडी पुरम योजना में 23 एवं चन्द्र वरदाई नगर योजना में 2 मामलों में रेफरेंस (सक्षम न्यायालय में अवार्ड राशि जमा) विचाराधीन है।

खातेदार को विकसित भूमि देने का निर्णय

दीनदयाल उपाध्याय पुरम योजना में 20 प्रतिशत आवासीय एवं 5 प्रतिशत व्यावसायिक भूमि योजना में खातेदार को ही दिए जाने का प्रावधान होने से खातेदार को ही विकसित भूमि दिए जाने के निर्णय लिए गए हैं। 15 प्रतिशत विकसित भूमि के लिए राज्य सरकार के पूर्व परिपत्रो में नामित (मनोनीत) व्यक्ति को भूमि दिए जाने के प्रावधान पर विकसित भूमि के लिए राज्य के पूर्व परिपत्रों में नामित को विकसित भूमि दिए जाने का निर्णय लिया गया है। जिन प्रकरणों में विक्रय पत्रों के आधार पर क्रेताओं को विकसित भूमि दिए जाने का निर्णय लिया गया है उन प्रकरणों में भूमि का कब्जा खातेदार द्वारा क्रेता को दिया जा चुका है एंव प्राधिकरण द्वारा कब्जा क्रेता से ही प्राप्त किया जा सकता है एवं क्रेता द्वारा ही समर्पण पत्र प्रस्तुत कर कब्जा प्रदान किया गया है।

यहां यह भी उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार द्वारा हाल ही में जारी आदेश के तहत अवार्ड के बाद विक्र य के अवस्था में क्रेताओं को विकसित भूमि दिए जाने का प्रावधान किए गए हैं। अवाप्त शुदा के समर्पणकताओं द्वारा समर्पण के साथ ही कब्जा भूमि अवाप्ति अधिकारी को सुपुर्द कर दिया गया है। चन्द्रवरदाई नगर योजना में योजना लगभग क्रियान्वित की जा चुकी है एवं पृथ्वीराज नगर योजना एवं डीडी पुरम योजना में क्रियान्वित की जा रही है।

read more: 6354 आवास में से केवल 1476 ही तैयार हुए 2851 का निर्माण नहीं हुआ शुरु

Show More
bhupendra singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned