Ajmer Municipal Election:भागते-दौड़ते किया मतदान, ईवीएम में कैद हुई किस्मत

कड़ाके की सर्दी के चलते सुबह 8 से 10 बजे तक मतदान का दौर धीमा रहा। जैसे-जैसे धूप तीखी हुई, मतदान का सिलसिला बढ़ता चला गया।

By: raktim tiwari

Published: 28 Jan 2021, 05:10 PM IST

अजमेर. नगर निगम के 80 वार्ड के लिए गुरुवार को चुनाव हुए। 382 प्रत्याशियों का भाग्य बंद हो गया। कड़ाके की सर्दी के चलते सुबह 8 से 10 बजे तक मतदान का दौर धीमा रहा। जैसे-जैसे धूप तीखी हुई, मतदान का सिलसिला बढ़ता चला गया। खानपुरा, सुभाष नगर-पहाडग़ंज, आशागंज सहित इससे सटे इलाकों में पोलिंग बूथ में बुजुर्गों, महिलाओं-पुरुओं और नव मतदाताओं ने उत्साह से मताधिकार का प्रयोग किया। गली-मोहल्लों, चबूतरों और मुख्य सड़कों पर प्रत्याशियों और उनके समर्थकों का जमावड़ा रहा। घरों से मतदाताओं को लाने के लिए ऑटो, टैम्पो-वैन-कार दौड़ती रहीं।

व्हील चेयर की नहीं व्यवस्था

खानपुरा के वार्ड 32 स्थित निजी स्कूल में प्रशासन ने व्हीलचेयर का बंदोबस्त नहीं किया। इससे उम्रदराज और बुजुर्ग मतदाताओं को खासी परेशाननियां हुई। परिजनों और पुलिसकर्मियों ने बुजुर्गों को गोदी में उठाकर मतदान केंद्र तक पहुंचाया। 91 साल की रावकी देवी को उनके पोते-पोती बाइक पर बैठाकर पहुंचे।

बूथ बदलने से रहे परेशान

तकरीबन सभी वार्डों में बूथ बदलने से मतदाता परेशान रहे। इस बार परिसीमन होने से नए वार्ड बन गए। इसके अलावा कोरोना संक्रमण के चलते प्रशासन ने बूथ की संख्या बढ़ा दी। मतदाताओं को एक बूथ से दूसरे बूथ चक्कर लगाने पड़े। वार्ड 27 में पर्चियों का वितरण नहीं होने से कई मतदाता पुराने बूथ पर पहुंच गए। वहां से उन्हें दूसरे बूथ पर भेजा गया।

कराई सोशल डिस्टेंसिंग की पालना

शहर के अधिकांश पोलिंग बूथ पर सोशल डिस्टेंसिंग की अनदेखी होती रही। लेकिन वार्ड 22 में आशागंज संत कंवरराम स्कूल में इसकी अक्षर: पालना कराई गई। वहां मौजूद शिक्षकों और प्रशासनिक अधिकारियों ने मतदाताओं को सोशल डिस्टेंसिंग के लिए बने सर्किल में खड़ा कराया। एक-एक कर ही मतदान के लिए भीतर भेजा गया।

बगैर मास्क लौटाया घर

कोरोना संक्रमण और नो मास्क नो एन्ट्री को लेकर यूं तो मतदाता जागरुक दिखे। लेकिन कई मतदाताओं ने इसे हल्के में लिया। वार्ड 37, वार्ड 35 और वार्ड 26 में बगैर मास्क लगाए आए मतदाताओं को पुलिसकर्मियों, बूथ प्रभारियों ने टोका। कार्यकर्ताओं ने कई महिलाओं-युवाओं को मास्क लाने के लिए घर भेज दिया।

तीन घंटे में मात्र 4 प्रतिशत वोट

वार्ड 34 स्थित निजी स्कूल में शुरुआती 3 घंटे में मतदान का रुझान कम रहा। यहां सुबह 8 से 11 बजे तक महज 4 प्रतिशत वोट पड़े। पुलिसकर्मी और मतदान दल मतदाताओं के इंतजार में दिखे। दोपहर 12 बजे बाद ही यहां कुछ चहल-पहल नजर आई।

सेनेटाइज कराने के बाद प्रवेश

कोरोना संक्रमण के चलते सभी पोलिंग बूथ पर स्टाफ मुस्तैद और सतर्क रहा। कमरों में मतदान से पहले आशा सहयोगिनियों और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने हाथ सेनेटाइज्ड कराए। कई मतदाता स्वयं हैंड सेनेटाइजर लेकर पहुंचे। अंदर स्याही लगाने के लिए मतदानकर्मियों ने किसी को छूने से परहेज किया।

मैं तो अच्छे-अच्छे को टोक दूं...

वार्ड 27 में बूथ एजेंट्स की टेबल एकसाथ लगे से मेले जैसा माहौल नजर आया। यहां एक युवक पानी के कैंपर पर बैठा दिखा। भोजन के बाद कमलादेवी पानी पीने वहां पहुंची। उन्होंने युवक को कहा...ये जलदेवता हैं....ऐसे बैठना गलत है......। वह व्यक्ति उसे नसीहत देने लगा तो महिला ने कहा...मैं तो अच्छे-अच्छे को टोक दूं....कोई गलत तो नहीं कहा है।

लम्बे फेरे से हुए बुजुर्ग परेशान

सम्राट पृथ्वीराज चौहान राजकीय महाविद्यालय और ब्यावर रोड एक स्थित निजी स्कूल में मुख्य द्वार से बूथ तक पहुंचना बुजुर्गों के लिए मुसीबत साबित हुआ। मेनगेट से बूथ तक पैदल-पैदल जाने में कई बुजुर्गों की सांस फूल गई। परिजनों को उन्हें जमीन-कुर्सी पर बैठाना पड़ा। इसको लेकर वे प्रशासनिक व्यवस्थाओं को कोसते नजर आए।

नहीं जुड़ा नए मतदाताओं का नाम
18 वर्ष की आयु पा चुके कई मतदाता अंतिम सूची में नाम नहीं जुडऩे से वोट नहीं डाल पाए। उनका ई-वोटिंग कार्ड बनने और मतदाता सूची में नाम भी दर्ज हो गया। लेकिन निर्धारित बूथ पर सूची में उनका नाम नहीं मिला। सुभाष नगर, पहाडग़ंज, आशागंज, आदर्श नगर, परबतपुरा, गौतम नगर सहित अन्य इलाकों में कई युवा निराश हुए. बीएलओ ने बताया कि नाम जुड़वाने वाले प्रपत्र के साथ एकअन्य प्रपत्र नहीं भरने के कारण उनका नाम अंतिम मतदाता सूची में नहीं जोड़ा जा सका।

बूथ परिसर में घुसे लोग...

खानपुरा में बूथ परिसर में कुछ लोग जबरन अंदर घुस गए। उन्हें पुलिस ने रोका तो युवकों ने मतदान में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए पहले ही कुछ लोगों की मौजूदगी बात कही। उन्होंने जबरन कक्ष में घुसने का प्रयास किया तो पुलिस ने उन्हें खदेड़ दिया। बाद में समझाइश कर मामला सुलझाया गया।

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned