scriptAjmer's Voice: Hyacinth growing dangerous for lake | Ajmer's Voice: जलकुंभी से आनासागर को खतरा.... | Patrika News

Ajmer's Voice: जलकुंभी से आनासागर को खतरा....

Ajmer's Voice कई इलाकों में जलकुम्भी लगातार दिखाई देती है। यही स्थिति रही तो एक खूबसूरत झील जल्द बर्बादी के कगार पर पहुंच सकती है।

अजमेर

Published: January 28, 2022 07:56:02 pm

अजमेर. जलकुंभी पानी में अधिकतम ऑक्सीजन का उपयोग करती है। इससे जीवों का दम घुटने लगता है। पानी में दुर्गंध फैलाने और पानी को प्रदूषि करने में यह सबसे घातक है। आनासागर मेें तत्काल बड़े पैमाने पर सफाई अभियान चलाना चाहिए।
Hyacinth in anasagar lake
Hyacinth in anasagar lake
डॉ. राजूलाल शर्मा

बांडी नदी और आनासागर झील तक जलकुंभी तक पहुंचना नुकसानदायक है। इसको समूल नष्ट करना जरूरी है। झील में जलकुंभी नहीं पहुंचे इसके लिए विशेषज्ञों से परामर्श लेना जरूरी है।
जितेंद्र मित्तल

गुलमोहर कॉलोनी, गौरव पथ और इसके आसपास जलकुंभी फैली हुई है। बदबू से पूूरा क्षेत्र प्रभावित है। झील में नियमित सफाई बहुत जरूरी है। खरपतवार को जड़ से नष्ट नहीं किया गया तो आनासागर का अस्तित्व खतरे में पड़ जाएगा।
मंजू सुराणा
Read More: जलकुम्भी से आनासागर की सुंदरता और पानी का खतरा

अजमेर. प्राकृतिक सुंदरता और पक्षियों की पसंदीदा आश्रय स्थल माने जाने वाली आनासागर झील पर खतरा मंडरा रहा है। इसके कई इलाकों में जलकुम्भी लगातार दिखाई देती है। यही स्थिति रही तो एक खूबसूरत झील जल्द बर्बादी के कगार पर पहुंच सकती है।
आनासागर झील में बांडी नदी, गौरव पथ, पुष्कर रोड और आसपास के इलाके में जलकुम्भी अक्सर दिखाई देती है। ऊपर से सफाई के बावजूद इसका पानी के भीतर फैलाव हो रहा है। कई मर्तबा यह टापू और झील के बीचों-बीच नजर आती है। जलकुंभी को कॉमन वाटर हायसिंथ (नीला शैतान) कहा जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम (इकॉरनीय प्रेसिपस) भी है। मूलत: यह दक्षिणी अमरीका की अमेजन नदी के किनारे पाया जाता था। वहां से अंग्रेज इसको सजावटी पौधे के रूप में भारत में लाए। तबसे यह देश के विभिन्न राज्यों, शहरों और गांवों तक पैर पसार चुका है।
आनासागर में जलकुंभी के खास कारण......

मछली पालन और अन्य कार्यों में लगे ठेकेदार आनासागर झील को नुकसान पहुंचा रहे हैं। कुछ लोग जलकुंभी लाकर डालते हैं। इससे पानी और जीव-जंतुओं को नुकसान पहुंच रहा है।
-झील में बांडी नदी और 13-14 नालों से पानी पहुंचता है। बजरी और अन्य सामग्री पानी के साथ आनासागर में पहुंच रही है। इसके चलते जलकुंभी को फैलने का अवसर मिल रहा है।

-आनासागर की सफाई के लिए डीविडिंग मशीन चलती है। इससे ऊपरी तौर पर सफाई हो जाती है। लेकिन जलकुंभी को समूल नष्ट नहीं किया जा रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

30 साल बाद फ्रांस को फिर से मिली महिला पीएम, राष्ट्रपति मैक्रों ने श्रम मंत्री एलिजाबेथ बोर्न को नया पीएम किया नियुक्तदिल्ली में जारी आग का तांडव! मुंडका के बाद नरेला की चप्पल फैक्ट्री में लगी भीषण आग, मौके पर पहुंची 9 दमकल गाडि़यांबॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीनSri Lanka में अब तक का सबसे बड़ा संकट, केवल एक दिन का बचा है पेट्रोलIAS अधिकारी ने भारत की थॉमस कप जीत पर मच्छर रोधी रैकेट की शेयर की तस्वीर, क्रिकेटर ने लगाई फटकार - 'ये तो है सरासर अपमान'ताजमहल के बंद 22 कमरों का खुल गया सीक्रेट, ASI ने फोटो जारी करते हुए बताई गंभीर बातेंकर्नाटक: हथियारों के साथ बजरंग दल कार्यकर्ताओं के ट्रेनिंग कैम्प की फोटोज वायरल, कांग्रेस ने उठाए सवालPM Modi Nepal Visit : नेपाल के बिना हमारे राम भी अधूरे हैं, नेपाल दौरे पर बोले पीएम मोदी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.