Ajmer urs: फरवरी में होगा गरीब नवाज का उर्स

लाखों जायरीन शिरकत करेंगे। इनके ठहराव और अन्य इंतजाम को लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं।

अजमेर.

सूफी संत ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती के 808 वें उर्स (annual urs) की तैयारियां शुरू हो गई हैं। सालाना उर्स फरवरी के दूसरे पखवाड़े में शुरू होगा। इसमें देश-विदेश से लाखों जायरीन (pilgrims) शिरकत करेंगे। इनके ठहराव और अन्य इंतजाम को लेकर तैयारियां (prepration) शुरू हो गई हैं। दरगाह स्थित बुलंद दरवाजे पर रंग-रोगन का कामकाज प्रारंभ हो गया है। इसके अलावा दरगाह के अन्य इमारतों पर भी रंग-रोगन किया जाएगा।

Read More: पूर्व मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा- सरकार मंदिरों के काम नहीं रोके

ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती का 808 वां उर्स फरवरी में होगा। चांद दिखाई देने के बाद 19 या 20 फरवरी को दरगाह के बुलंद दरवाजे पर पारम्परिक झंडा (flag hosting) चढ़ाने की रस्म होगी। इसकी तैयारियों के तहत बुलंद दरवाजे पर रंग-रोगन शुरू हो गया है। कारीगर दरवाजे पर सफेद और हरा रंग (paint) कर रहे हैं। दरगाह स्थित महफिल खाना और अन्य इमारतों पर भी पेंट और कलर (paint and colour) किया जाएगा। उधर कायड़ विश्राम स्थली पर हजारों जायरीन ठहरेंगे। वहां भी टॉयलेट की मरम्मत, मैदान की साफ-सफाई हो रही है।

Read More: अक्षरधाम आतंकी हमले के जांबांज ने कहा- सेना बुलाए तो आज भी लगा देंगे जान की बाजी

चांद से तय होगी उर्स के झंडे की तारीख
परम्परानुसार भीलवाड़ा का गौरी परिवार (gauri family) झंडा लेकर अजमेर आएगा। 808 वें उर्स के झंडे की तारीख जमादि उल आखिर के चांद से तय होगी। झंडे को बुलंद दरवाजे (buland darwaza) पर चढ़ाया जाएगा। इस रस्म के बाद रजब का चांद देखा जाएगा। इसके बाद ही ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती के सालाना उर्स के रसूमात शुरू होंगे। रजब की पहली से छठी तारीख विभिन्न कार्यक्रम (traditions) होंगे। उर्स के दौरान होने वाली महफिल में परम्परानुसार मजार शरीफ (mazar sharif) पर गुलाब जल और केवड़े से गुस्ल दिया जाएगा।

Read More:Ajmer Discom: दस हजार से ज्यादा बकाया तो कटेगा बिजली कनेक्शन

Show More
raktim tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned