मुख्यमंत्री की सुरक्षा में जाप्ता लगाने से मना करने पर सांडवा एसएचओ को लाइन हाजिर की मिली सजा!

आरोप है कि उच्चाधिकारियों के निर्देश के बावजूद सांडवा थानाधिकारी ने कोई वजह बनाकर जाप्ता भेजने में असमर्थता जताई,सभास्थल श्रीडूंगरगढ़ होने व थाने का क्षेत्राधिकार नहीं होने का दिया तर्क,दूसरी ओर जिला पुलिस अधीक्षक ने लाइन हाजिर करने को प्रशासनिक वजह बताया

By: suresh bharti

Published: 02 Mar 2021, 11:59 PM IST

चूरू/बीकानेर. प्रदेश के मुखिया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सुरक्षा में बड़ी चूक होने का मामला सामने आया है। आरोप है कि निर्देशों के बावजूद सांडवा थानाधिकारी की ओर से सीएम की सुरक्षा में जाप्ता नहीं लगाया। चर्चा है कि इसी के चलते पुलिस अधीक्षक नारायण टोगस ने सांडवा थानाधिकारी हंसराज को लाइन हाजिर कर दिया।

हालांकि पूरे मामले में जिला पुलिस लापरवाही छिपाने में लगी रही। पुलिस अधीक्षक भी केवल इसे प्रशासनिक कारणों का हवाला देते हुए मामले से बचते नजर आए। प्रशासनिक कारण क्या रहे, इस बात का जवाब नहीं दे पाए। प्रदेश के मुखिया की सुरक्षा में चूक का मामला चर्चा का विषय बना रहा।

सीएम तक पहुंचा मामला

सूत्रों के अनुसार पिछले दिनों मुख्यमंत्री की डूंगरगढ़ तहसील की पंचायत धनेरू के आसलाव ताल में सभा थी। इसको लेकर मुख्यमंत्री की सुरक्षा में लगे अधिकारियों की ओर से सभास्थल सांडवा थाना क्षेत्र से सटा होने के चलते थानाधिकारी हंसराज को जाप्ते सहित सुरक्षा के लिए तैनात रहने के लिए कहा गया था, लेकिन थानाधिकारी ने मुख्यमंत्री की सुरक्षा में लगे अधिकारियों को सभास्थल श्रीडूंगरगढ़ होने व थाने का क्षेत्राधिकार नहीं होना बताकर इससे साफ इंकार कर दिया गया।

सभा समाप्त होने के बाद मामले को लेकर सुरक्षा में तैनात अधिकारियों ने सीएम को इस बात से अवगत कराया। इसे गंभीरता से लेते हुए चूरू पुलिस अधीक्षक नारायण टोगस को फ ोन कर लापरवाह अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई के लिए कहा बताते हैं।

सिक्योरिटी आईजी बंसल पहुंचे बीकानेर

प्रदेश मुखिया की सुरक्षा में चूक के बाद सुरक्षा को लेकर बड़ा सवाल खड़ा हो गया। सुरक्षा में चूक कहां और किस-किस स्तर पर हुई। इसकी जांच-पड़ताल के लिए पुलिस महानिरीक्षक सिक्योरिटी विशाल बंसल मंगलवार को बीकानेर पहुंचे। मामले को लेकर बीकानेर रेंज पुलिस महानिरीक्षक प्रफु ल्ल कुमार एवं पुलिस अधीक्षक प्रीतिचन्द्रा से बातचीत की।

हेलीपैड पर नहीं हुई प्रोटोकॉल की पालना

पुलिस के अनुसार श्रीडूंगरगढ़ में मुख्यमंत्री के हैलीकॉप्टर के लिए बनाए हैलीपैड पर स्थानीय नेता स्वागत के लिए पहुंचे थे। यहां सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त होने के बावजूद स्थानीय नेता मुख्यमंत्री तक पहुंच गए। सीएम के सुरक्षाकर्मियों को उन्हें हटाने में बेहद परेशानी उठानी पड़ी। ऐसे में हमेशा शांत रहने वाले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत नाराज हो गए। प्रोटोकॉल की पालना क्यों नहीं हुई और चूक कहां हुई? इसकी गोपनीय जांच के लिए पुलिस महानिरीक्षक सिक्योरिटी विशाल बंसल मंगलवार को बीकानेर आए। उन्होंने बीकानेर रेंज पुलिस महानिरीक्षक प्रफुल्ल कुमार व पुलिस अधीक्षक प्रीतिचन्द्रा से प्रोटोकॉल की पालना नहीं होने पर नाराजगी जताई। साथ ही उन्होंने निर्देशित किया कि अगर स्थानीय नेता प्रोटोकॉल की पालना नहीं करते हैं तो उनके खिलाफ कार्रवाई करें।

दूसरी ओर पुलिस अधीक्षक चूरू नारायण टोगस ने कहा कि मुख्यमंत्री की यात्रा में चूक का कोई मामला नहीं है, सांडवा थानाधिकारी को प्रशासनिक कारणों के चलते लाइन हाजिर किया गया है।

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned