scriptAlready a little tourism, now entry fees have also been hindered | पहले ही पर्यटन थोड़ा, अब एंट्री फीस का भी लगा दिया रोड़ा | Patrika News

पहले ही पर्यटन थोड़ा, अब एंट्री फीस का भी लगा दिया रोड़ा

- चंबल जाने वाले लोगों से वसूल रहे 75 रुपए प्रति व्यक्ति - विभाग ने बताया अभयारण्य का प्रवेश शुल्क

यहां चंबल पर बोटिंग के लिए या यूंही घूमने जाने वाले लोगों से अब 75 रुपए प्रति व्यक्ति का एंट्री शुल्क भी वसूला जाने लगा है। चंबल राष्ट्रीय अभयारण्य प्रशासन की ओर से यह शुल्क वसूला जा रहा है

अजमेर

Published: December 18, 2021 02:03:20 am

धौलपुर. यहां चंबल पर बोटिंग के लिए या यूंही घूमने जाने वाले लोगों से अब 75 रुपए प्रति व्यक्ति का एंट्री शुल्क भी वसूला जाने लगा है। चंबल राष्ट्रीय अभयारण्य प्रशासन की ओर से यह शुल्क वसूला जा रहा है। पहले ही पर्यटकों का टोटा भुगत रहे धौलपुर में यह शुल्क कोढ़ में खाज साबित हो रहा है। ऐसे में जो थोड़े-बहुत पर्यटक यहां आते हैं उनके भी मध्यप्रदेश सीमा में जाने की आशंका पैदा हो गई है। उधर, अभयारण्य प्रशासन का कहना है कि यह राशि चंबल के विकास में ही खर्च की जाएगी।
पहले ही पर्यटन थोड़ा, अब एंट्री फीस का भी लगा दिया रोड़ा
पहले ही पर्यटन थोड़ा, अब एंट्री फीस का भी लगा दिया रोड़ा
स्थिति है बेजार
धौलपुर में चंबल में बोटिंग व अन्य पर्यटन को लेकर स्थिति पहले से ही बेजार है। गाहे-ब-गाहे बमुश्किल दो-चार पर्यटक यहां आते हैं। ऐसे में एंट्री फीस का रोड़ उन्हें भी रोक रहा है। पर्यटकों को यहां कोई सुविधा भी नहीं मिलती है। ऐसे में विभाग का यह कदम पर्यटकों के कदम रोकने वाला ही साबित होगा।
मध्यप्रदेश में पर्यटन गुलजार

चंबल के दो किनारों पर स्थिति बिलकुल विपरीत है। एक ओर जहां राजस्थान में धौलपुर पर्यटकों के लिए तरस रहा है वहीं, दूसरे किनारे मध्यप्रदेश के मुरैना में पर्यटकों की भरमार है। मध्यप्रदेश में पर्यटकों को तरह-तरह की सुविधाएं दी जा रही हैं। स्पीड बोट समेत प्रशिक्षित स्टाफ है। जबकि धौलपुर में नगर परिषद की एकमात्र बोट संचालित है।
सुविधाओं का है टोटा

धौलपुर में चंबल बोटिंग के लिए जाने वाला रास्ता भी ऊबड़-खाबड़ है। बोटिंग का प्लेटफॉर्म भी टूटा-फूटा है। बोट तक पहुंचना पर्यटकों के लिए जान से खेलने के बराबर है। यहां टॉयलेट या अन्य कोई सुविधा भी नहीं है।
इनका कहना है

यह एंट्री शुल्क चंबल अभयारण्य के विकास पर खर्च किया जाएगा। इसमें विद्यार्थी समेत अन्य वर्गों को रियायत भी दी जाएगी। धौलपुर में पर्यटकों के लिए चंबल किनारे कैफेटेरिया खोलने पर भी विचार किया जा रहा है।
- अनिल यादव, डीएफओ, चंबल राष्ट्रीय अभयारण्य, सवाई माधोपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

बिहार में बड़ा हादसा: गंडक नदी में डूबा ट्रैक्टर, हादसे में 2 लोगों की मौत, 20 लापताभारत ने निर्धारित अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर बैन 28 फरवरी तक बढ़ायासानिया मिर्जा ने किया संन्यास का ऐलान, बोलीं-'मेरा शरीर खराब हो रहा है'UP Assembly Elections 2022 : अखिलेश यादव ने कहा सपा की सरकार बनी तो महिलाओं को देंगे 1500 रुपये प्रति महीने पेंशनMaharashtra Nagar Panchayat Election Result: 106 नगरपंचायतों के चुनावों की वोटों की गिनती जारी, कई दिग्‍गजों की प्रतिष्‍ठा दांव परकोई बना दिल का राजा तो किसी को जनता ने बताया नकारा, मंत्रियों पर हुए सर्वे में खुलासाOBC Reservation: ओबीसी राजनीतिक आरक्षण पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, आ सकता है बड़ा फैसलाUP Election 2022: यूपी चुनाव से पहले मुलायम कुनबे में सेंध, अपर्णा यादव ने ज्वाइन की बीजेपी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.