अब पूरे राजस्थान में एग्जाम देना पड़ेगा महंगा, स्टूडेंट्स की जेब ढीली करेंगी यूनिवर्सिटी

विद्यार्थियों को अब सालाना परीक्षा फार्म भरने के लिए जेब कुछ ज्यादा ढीली करनी होगी।

By: raktim tiwari

Published: 14 Nov 2017, 08:51 AM IST

रक्तिम तिवारी/अजमेर।

पूरे राजस्थान के विद्यार्थियों को अब सालाना परीक्षा फार्म भरने के लिए जेब कुछ ज्यादा ढीली करनी होगी। महर्षि दयानंद सरस्वती सहित सभी विश्वविद्यालय में राजभवन का समान परीक्षा शुल्क लागू होगा। इसे सैद्धांतिक स्तर पर मंजूरी मिल चुकी है। एमडीएस यूनिवर्सिटी में ऑनलाइन परीक्षा फार्म 20 नवम्बर या इसके बाद भरवाने शुरू होंगे।

राजभवन ने सभी विश्वविद्यालयों को समान परीक्षा शुल्क लागू करने के निर्देश दिए हैं। विश्वविद्यालय परीक्षा शुल्क का मामला प्रबंध मंडल से पारित कराना चाहता है, लेकिन बैठक 5 दिसम्बर को होने से इसमें विलम्ब हो रहा है। ऐसे में परीक्षा विभाग ने कुलपति से वार्ता कर समान परीक्षा शुल्क पर नियमानुसार मंजूरी ले ली है। यह सूची एकेडेमिक से परीक्षा विभाग को भिजवाई जानी है।

परीक्षा फार्म भरने की तिथियां, पेपर स्कीम और अन्य सूचना जल्द बेबसाइट पर अपलोड होंगी। समान परीक्षा शुल्क लागू होने से विद्यार्थियों की जेब पर बोझ बढ़ेगा। विश्वविद्यालय को परीक्षा शुल्क से करीब 50 करोड़ रुपए की आय होगी, लेकिन स्नातक और स्नातकोत्तर की सभी परीक्षाओं की फीस बढ़ जाएगी। मालूम हो कि अब तक विश्वविद्यालय प्रतिवर्ष 5 प्रतिशत परीक्षा शुल्क की बढ़ोतरी ही करता रहा है। 3.35 लाख

विद्यार्थी देंगे परीक्षा

वर्ष 2018 की स्नातक और स्नातकोत्तर परीक्षाओं में करीब 3.35 लाख विद्यार्थी परीक्षा देंगे। इनमें 1 लाख विद्यार्थी तो प्रथम वर्ष के होंगे। अन्य विद्यार्थियों में द्वितीय, तृतीय वर्ष, स्नातकोत्तर पूर्वाद्र्ध और उत्तर्राद्र्ध के विद्यार्थी शामिल होंगे। फार्म भरने की तिथियां, विद्यार्थियों की पेपर स्कीम, फीस और अन्य सूचनाएं कम्प्यूटर फर्म को दी जाएंगी। यह विश्वविद्यालय के पोर्टल पर उपलब्ध होंगी।

बॉम बैठक भी 5 को
उधर 14 नवम्बर को प्रस्तावित प्रबंध मंडल (बॉम) की बैठक अब 5 दिसम्बर को होगी। विश्वविद्यालय 20 नवम्बर या इसके बाद ऑनलाइन परीक्षा फार्म भरवाना शुरू करेगा। फरवरी में परीक्षाओं की शुरुआत को देखते हुए परीक्षा सहित विभिन्न विभागों के कार्मिकों की अतिरिक्त सेवाएं ली जाएंगी।

इस बार राजभवन का समान परीक्षा शुल्क लागू होगा। ऑनलाइन परीक्षा फार्म 20 नवम्बर या इसके बाद भरने शुरू हो जाएंगे। इसकी तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। डॉ. जगराम मीणा, परीक्षा नियंत्रक मदस विश्वविद्यालय

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned