दस हजार कानूनी किताबों से समृद्ध है 'बार लाइब्रेरी

अजमेर बार पुस्तकालय में ब्रिटिशकालीन कानून की किताबों का भी भंडार, -ई-लाईब्रेरी में सुप्रीम कोर्ट के ताजातरीन फैसले भी ऑनलाइन उपलब्ध

देश की पुरानी बार एसोसिएशन में शुमार अजमेर जिला बार एसोसिएशन की पहचान एेतिहासिक ब्रिटिशकालीन किताबों के साथ आधुनिक सुविधायुक्त ई-लाइब्रेरी से भी है। जिसमें सुप्रीम कोर्ट सहित देश के विभिन्न उच्च न्यायालयों के नवीनतम फैसले भी ऑनलाइन उपलब्ध हैं।

By: Dilip

Published: 05 Feb 2021, 11:33 PM IST

दिलीप शर्मा

अजमेर. देश की पुरानी बार एसोसिएशन में शुमार अजमेर जिला बार एसोसिएशन की पहचान एेतिहासिक ब्रिटिशकालीन किताबों के साथ आधुनिक सुविधायुक्त ई-लाइब्रेरी से भी है। जिसमें सुप्रीम कोर्ट सहित देश के विभिन्न उच्च न्यायालयों के नवीनतम फैसले भी ऑनलाइन उपलब्ध हैं। ई-लाईब्रेरी से सुप्रीम कोर्ट व हाईकोर्ट के होने वाले फैसलों को नजीर के लिए तत्काल प्राप्त किया जा सकता है। अजमेर की बार की लाईब्रेरी में ब्रिटिश कानून हैल्सबेरी की लॉ ऑफ इंग्लैंड की १९३१ की पुस्तकों सहित करीब १० हजार से अधिक पुस्तकों का संग्रह है। लाइब्रेरी युवा वकीलों के लिए खासी मददगार है।

ई-लाइब्रेरी

वर्ष २०१९ से न्यायालय परिसर में निजी क्षेत्र के सहयोग से स्थापित ई-लाइब्रेरी सर्वाधिक उपयोगी है। यहां सुप्रीम कोर्ट व देश की सभी हाईकोर्ट के ताजा फैसले ऑनलाइन उपलब्ध हैं। वकीलों को प्रकरण का विवरण देने के फौरन बाद मौजूद स्टाफ फैसले की प्रति उपलब्ध करा देता है। वातानुकूलित व आधुनिक फर्नीचर से सुसज्जित पुस्तकालय में करीब १० हजार पुस्तकें, बेयर एक्ट व अन्य कानूनी डाईजेस्ट वकीलों के लिए उपलब्ध हैं।

बार की पुरानी लाइब्रेरी भी महत्वपूर्ण

अजमेर बार की लाइब्रेरी में पुस्तकों का अथाह भंडार है। बार की पुरानी लाइब्रेरी में ऑल इंडिया रिपोर्टर (एआईआर) के १९४७ से लेकर नवीनतम वॉल्यूम सहित विभिन्न किताबें है। पुस्तकालय की सर्वाधिक उपयोगिता किसी मुकदमें में सदंर्भ प्रकरणों को नजीर के बतौर पेश किए जाने में रहती है। लाइब्रेरी में डाइजेस्ट, कई नवीन कानून तथा समय-समय पर विधि से जुड़े कई कानूनों की किताबें वकीलों को सहज उपलब्ध हैं। लाइब्रेरी को स्थानीय कोर्ट स्टाफ किशन अग्रवाल व हेमंत सेन वर्षों से संभाले हैं।

हैल्सबरी लॉ ऑफ इंग्लैंण्ड के वॉल्यूम

अजमेर मेरवाड़ा कमिश्नरेट के समय से स्थापित बार लाइब्रेरी को ब्रिटिशकालीन हैल्सबरी लॉ ऑफ इंग्लैंण्ड के वॉल्यूम (संस्करण) समृद्ध बनाते हैं। देश की चुनिंदा बार एसोसिएशन की लाइब्रेरी में ही हैल्सबरी लॉ की करीब ७० पुस्तकें हैं। इन पुस्तकों की जिल्द, प्रत्येक पृष्ठ के बॉर्डर पर स्वर्ण परत चढ़ी होने से यह आज भी सुरक्षित हैं। र की लाइब्रेरी में १९३१ की हैल्सबरी लॉ पुस्तकों का संग्रह है। जिन्हें वकील किसी प्रकरण में संदर्भ पुस्तक के रूप में प्रस्तुत करते हैं। १९१४ की ऑल इंडिया रिपोर्टर एआईआर के कुछ वॉल्यूम भी लाइब्रेरी में मौजूद हैं।

इनका कहना है
लाइब्रेरी की सार-संभाल कर इसे संजोकर रखा है। यहां की पुस्तकें देश की कुछ ही बार एसोसिएशनों में उपलब्ध हैं। खासकर हैल्सबरी की इंग्लैंड लॉ की पुस्तकें यहां की धरोहर कही जा सकती हैं।

अजय त्रिपाठी

अध्यक्ष, बार एसोसिएशन अजमेर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned