भागीरथ को अजेय बढ़त, पिछला रिकॉर्ड तोड़ सकती है भाजपा

एक साल बाद भाजपा ने मुख्य चुनाव में जबरदस्त तरीके से वापसी करते हुए पासा पलट दिया।

By: raktim tiwari

Published: 23 May 2019, 12:51 PM IST

अजमेर.

सिर्फ डेढ़ साल में अजमेर संसदीय क्षेत्र ने चुनाव के अलग-अलग रंग देख लिए। जहां पिछले साल जनवरी में हुए लोकसभा उप चुनाव में कांग्रेस ने जीत हासिल की थी। वहीं महज एक साल बाद भाजपा ने मुख्य चुनाव में जबरदस्त तरीके से वापसी करते हुए पासा पलट दिया। भाजपा के भागीरथ चौधरी को अजेय बढ़त मिल चुकी है। जीत के लिहाज से भाजपा 2014 का रिकॉर्ड को तोड़ सकती है।

पायलट हारे थे 1.84 लाख वोट से

2014 में तत्कालीन जल संसाधन मंत्री प्रो. सांवरलाल जाट ने मौजूदा उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट को 1 लाख 84 हजार वोट से हराया था। यह अजमेर संसदीय क्षेत्र की सबसे बड़ी हार थी। लेकिन इस बार भाजपा के भागीरथ चौधरी इस रिकॉर्ड को भी तोड़ते नजर आ रहे हैं। उन्हें 2.44 लाख वोट की बढ़त मिल चुकी है। जबकि कांग्रेस के रिजु झुनझुनवाला को 1.44 लाख वोट ही मिल हैं। इस लिहाज से चौधरी पिछले रिकॉर्ड को ध्वस्त कर सकते हैं।

एक साल में बदली तस्वीर

की 2017 में मृत्यु हो गई थी। उनकी मृत्यु के बाद जनवरी 2018 में अजमेर संसदीय क्षेत्र के लिए उप चुनाव हुए। कांग्रेस की तरफ से डॉ. रघु शर्मा और भाजपा से जाट के पुत्र रामस्वरूप लांबा ने चुनाव लड़ा। डॉ. शर्मा ने 80 हजार से ज्यादा मतों से लांबा को शिकस्त देकर कांग्रेस को विजयी बनाया। उस वक्त प्रदेश की तत्कालीन भाजपा सरकार के कामकाज को लेकर जनता में काफी नाराजगी रही थी। इसका कांग्रेस को फायदा मिला था।

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned