Big issue: इस यूनिवर्सिटी को ढूंढ रहे स्टूडेंट, जाने कब खत्म होगी तलाश

यूनिवर्सिटी की फाइल जांचता उद्योग विभाग। एक भी सरकारी कॉलेज नहीं है सम्बद्ध।

By: raktim tiwari

Updated: 21 Nov 2020, 10:13 AM IST

रक्तिम तिवारी/अजमेर. राज्य में कौशल विकास और स्वरोजगार प्रशिक्षण के उद्धेश्य के लिए स्थापित आईएलडी स्किल यूनिवर्सिटी अपना 'अस्तित्व तलाश रही है। अव्वल तो यूनिवर्सिटी से राज्य का कोई सरकारी कॉलेज सम्बद्ध नहीं है। तिस पर यह उच्च शिक्षा के बजाय उद्योग विभाग के अधीन है। यूनिवर्सिटी की तमाम फाइलें उद्योग विभाग जांचता है। इसके पाठ्यक्रमों-कार्यक्रमों का तीन साल में 5 प्रतिशत युवाओं को भी फायदा नहीं मिला है।

लघु-कुटीर उद्यम और कौशल विकास कार्यक्रमों को बढ़ावा देने की गरज से 2017 में राजस्थान आईएलडी स्किल यूनिवर्सिटी स्थापित की गई। इसका पहला सत्र 2018-19 में प्रारंभ हुआ। यूनिवर्सिटी से मौजूदा वक्त 96 कॉलेज-संस्थान सम्बद्ध हैं। यह सभी निजी संस्थाएं हैं।

उद्योग विभाग जाती पत्रावलियां!
नियमानुसार राजस्थान आईएलडी स्किल यूनिवर्सिटी उच्च शिक्षा विभाग के अधीन होनी चाहिए थी। लेकिन सभी पत्रावलियां उद्योग विभाग के पास जाती हैं। यह बात राज्यपाल कलराज मिश्र तक भी पहुंची है। जबकि यूनिवर्सिटी स्वायत्तशासी संस्थाएं हैं। इनके कुलपति और स्टाफ अहम कार्यों, योजनाओं, वित्तीय मामलों में उच्च शिक्षा विभाग और राजभवन से ही संपर्क करते हैं।

संस्थानों में चलते हैं यह कोर्स
बी.वोकेशनल इन इलेक्ट्रिकल एप्लाइंस सर्विस मैनेजमेंट, इंटीरियर डिजाइन, ऑटोमेटिव मेंटेनेंस सर्विस एंड रिपेयर, डेयरी मैनेजमेंट, योगा एवं नेच्यूपेथी, बैंकिंग फाइनेंस सर्विस, सिक्योरिटी सर्विस, ग्राफिक्स डिजाइन, वेब डवेलपमेंट, ब्यूटी एवंड कॉस्मेटोलॉजी, फायर टेक्नोलॉजी एंड इंडस्ट्रियल सेफ्टी मैनेजमेंट, फूड एंड बेवरीज, क्राफ्ट डिजाइन, इंटीरियर डिजाइनिंग एंड एन्टरप्रन्योर और अन्य

यूनिवर्सिटी से सरकारी कॉलेज दूर
राज्य में 329 सरकारी कॉलेज हैं। इनमें अजमेर, बीकानेर, कोटा, सीकर, अलवर, भरतपुर, चूरू, भीलवाड़ा और अन्य शहरों में बड़े पीजी-यूजी कॉलेज हैं। राज्य में सरकारी कॉलेज में 5.29 लाख विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। जबकि सरकारी विश्वविद्यालयों में 2.5 लाख विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। सरकारी कॉलेज में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय खुला विश्वविद्यालय के कौशल-विकास, रोजगारोन्मुखी पाठ्यक्रम संचालित हैं। कोई सरकारी कॉलेज राजस्थान आईएलडी स्किल यूनिवर्सिटी से सम्बद्ध नहीं है।

यूनिवर्सिटी के कोर्स का नहीं फायदा
सरकारी कॉलेज में पढऩे वाले विद्यार्थी लगातार तीसरे सत्र में राजस्थान स्किल आईएलडी स्किल यूनिवर्सिटी के कोर्स से दूर हैं। यूनिवर्सिटी के कोर्स का दायरा सिर्फ निजी कॉलेज-संस्थानों तक सिमटा हुआ है। बीती जुलाई में यूनिवर्सिटी ने अजमेर की महर्षि दयानंद सरस्वती यूनिवर्सिटी और एकाध अन्य विश्वविद्यालयों से एमओयू किया है।

ये है स्टाफ की स्थिति
कुलसचिव-1
निदेशक कौशल शिक्षा-1
परीक्षा नियंत्रक-1
उप कुलसचिव-1
डीन छात्र कल्याण-1
मीडिया सलाहकार-1
विषय-संकायवार डीन-15


यूनिवर्सिटी गठन के उ²ेश्य और नियमों में कई विरोधाभास हैं। उद्योग विभाग के अधीन होने से पत्रावलियां वहां जाती रही हैं। फिलहाल निजी संस्थाएं ही सम्बद्ध हैं। सरकारी कॉलेज तक दायरा बढ़ाया जाए तो कौशल विकास कार्यक्रमों-पाठ्यक्रमों का वास्तविक लाभ होगा। हम पूर्व की विसंगतियों को दूर करने और सही फे्रमवर्क तय करने की कोशिश में जुटे हैं।
ओम थानवी, कुलपति राजस्थान आईएलडी स्किल यूनिवर्सिटी

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned