Big issue: सिलेबस कम करने पर असमंजस में यूनिवर्सिटी

सीबीएसई कम कर चुका है सिलेबस माध्यमिक शिक्षा बोर्ड है तैयारी में।

By: raktim tiwari

Published: 17 Oct 2020, 04:04 PM IST

अजमेर.

कोरोना संक्रमण और ऑफलाइन कक्षाएं ठप होने के बावजूद राज्य के विश्वविद्यालय 'सिलेबसÓ कम करने को लेकर असमंजस में हैं। जहां सीबीएसई तो कदम बढ़ा चुका है। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड इसकी तैयारी में है। लेकिन उच्च शिक्षा विभाग-विश्वविद्यालय स्तर पर कोई तैयारी नहीं दिख रही।

देश में कोरोना संक्रमण और शैक्षिक सत्र में विलंब के चलते मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने सीबीएसई सहित देश के सभी शिक्षा बोर्ड, उच्च-तकनीकी संस्थानों को सिलेबस में कटौती करने की सिफारिश की है। सीबीएसई तो सत्र 2020-21 के सिलेबस में 30 प्रतिशत कटौती कर चुका है। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड भी इस कवायद में जुटा है।

विश्वविद्यालयों में असजमंस
राज्य के विश्वविद्यालयों में सिलेबस कम करने को लेकर असमंजस है। जबकि सत्र 2020-21 में ऑनलाइन पढ़ाई शुरू हुए तीन महीने बीत चुके हैं। कई विश्वविद्यालयों ने यूजी और पीजी विषयों के नए सिलेबस तो बना लिए हैं, लेकिन इनमें कटौती को लेकर चर्चा नहीं हुई है। उच्च शिक्षा विभाग स्तर पर कोई निर्देश जारी नहीं हुए हैं।

यूं जरूरी है कटौती...
-सत्र 2020-21 के बीत चुके हैं तीन महीने
-नवंबर में दिवाली और दिसंबर में शीतकालीन अवकाश
-कई विश्वविद्यालयों के सिलेबस नहीं हुए हैं प्रिंट
-कॉलेज में नहीं भेजे गए हैं सिलेबस
-विद्यार्थी नई स्कीम/नए बिंदुओं से नहीं हैं वाकिफ
-कॉलेज-यूनिवर्सिटी में लागू होना है क्रेडिट बेस्ड च्वॉइस सिस्टम

विद्यार्थियों की बढ़ी हुई है परेशानी
25 मार्च से 18 मई तक लॉकडाउन रहा था। इसके चलते विद्यार्थियों की पढ़ाई खराब हुई। 15 जून से 16 अक्टूबर तक ऑनलाइन पढ़ाई हो रही है। विद्यार्थियों के पास नए सिलेबस, किताबें उपलब्ध नहीं हैं। हालात को देखते हुए नियमित ऑफलाइन क्लास संभव नहीं है। केवल ऑनलाइन परामर्श-मार्गदर्शन ही एकमात्र विकल्प है।

COVID-19 virus
Show More
raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned