Bisalpur dam: बीसलपुर फुल, गेट खोलने पर हैं सबकी नजर

Bisalpur dam: बीसलपुर फुल, गेट खोलने पर हैं सबकी नजर

raktim tiwari | Updated: 19 Aug 2019, 09:40:21 AM (IST) Ajmer, Ajmer, Rajasthan, India

जुलाई में जलदाय विभाग अजमेर जिले की आपात जलापूर्ति योजना (कंटीजेंसी प्लान) भेजा था। इसके तहत सांदला गांव के निकट बनास नदी में 50 ट्यूबवैल खोदने के अलावा नई पाइप लाइन डाली जानी थी।

अजमेर. बरसात ने बीसलपुर बांध (bisalpur dam) को लबालब कर दिया है। बांध का जलस्तर 315.36 आरएल मीटर तक पहुंच गया है। त्रिवेणी का गेज 2.40 मीटर चल रहा है। बांध के गेट (gates) खोलने पर सबकी नजरें टिकी हैं।

अजमेर सहित जयपुर और टोंक जिले के शहरी और ग्रामीण इलाके पूर्णत: बीसलपुर (bisalpur) बांध पर निर्भर हैं। पिछले साल कम बरसात (low rainfall) के चलते बीसलपुर बांध खाली रह गया था। इसके चलते विभाग (phed) ने बीते वर्ष सितंबर-अक्टूबर से ही 72 घंटे के अंतराल में पेयजल आपूर्ति (water supply) शुरू कर दी थी। बांध में बीती 25 जुलाई तक महज 304.40 आरएल मीटर बचा था। बांध से प्रतिदिन अजमेर को 260, जयपुर को 400 और टोंक को 20 एमएलडी पानी की सप्लाई (drinking water supply) की जा रही थी। 26 से 29 जुलाई तक टोंक, केकड़ी, भीलवाड़ा और चित्तौडगढ़़ में हुई बरसात के बाद बांध का जलस्तर 306.76 आरएल मीटर तक पहुंचा। इसके बाद महज 16 दिन की बरसात (heavy rain) ने बांध को लबालब कर दिया है। बांध का जलस्तर 315.36 आरएल मीटर के पार पहुंच गया है।

read more: Heavy rain in ajmer: भरपूर बरसात, खेतो-फसलों को मिली संजीवनी

जुलाई में ये था हाल
जुलाई में जलदाय विभाग अजमेर जिले की आपात जलापूर्ति योजना (contingengy plan) भेजा था। इसके तहत सांदला गांव के निकट बनास नदी में 50 ट्यूबवैल (tubewell) खोदने के अलावा नई पाइप लाइन (new pipe line) डाली जानी थी। भीलवाड़ा से वाटर ट्रेन द्वारा अजमेर को पानी मंगवाना भी शामिल था। लेकिन एक महीने में हालात बिल्कुल बदल चुके हैं। अब सरकार और जलदाय विभाग को आपात कोटे (emergency quota) के पेटे दो सौ करोड़ रुपए खर्च करने की जरूरत नहीं है।

read more: Ajmer- लगातार उफन रही आनासागर झील

13.50 टीएमसी पानी का गणित

11 टीएमसी पानी की जयपुर (jaipur), अजमेर (ajmer), और टोंक (tonk) जिले को पेयजल सप्लाई

1.50 टीएमसी पानी प्रतिवर्ष हो जाता है वाष्पीकृत

1 टीएमसी पानी होता है चोरी और काश्तकारी (agriculutre) पेटे के उपयोग

315 यानि तीन साल का पानी...
बीसलपुर बांध का गेज तेजी से 315 आरएल मीटर के पार पहुंच गया है। अब 2021 तक जयपुर, अजमेर और टोंक जिले को पेयजल किल्लत से नहीं जूझना पड़ेगा। बांध के पूर्ण भराव क्षमता यानि 315.50 आरएल मीटर पर पहुंचते ही तीन साल (three years) तक पानी की किल्लत (water crisis) नहीं होगी।

read more: अजमेर दरगाह के इस खादिम ने दिया ऐसा बयान, वीडियो वायरल

कब-कब खुले बांध के गेट

2004-अगस्त में 315 आरएल मीटर से ज्यादा पानी आवक पर खोले गेट

2005-अगस्त में 315 आरएल मीटर से ज्यादा पानी आवक पर खोले गए गेट

2006-अगस्त-सितंबर में 315. आरएल मीटर पानी आवक पर नौ गेट खोले गए

2014: 315 से ज्यादा आरएल मीटर पानी आवक पर खोले गए गेट

9 अगस्त 2016: 315.30 आरएल मीटर पानी आने पर 9 गेट खोलकर 88 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया

2 सितंबर 2016: 315.50 आरएल मीटर पानी आने पर 12 गेट खोलकर 1 लाख 63 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned