हिमाकत : कोरोना महामारी में विवाह समारोह रोकने गए बीएलओ व पुलिस पर पथराव,जीप व बाइक क्षतिग्रस्त

लॉकडाउन के चलते राज्य सरकार ने 24 मई तक विवाह समारोह पर प्रतिबंध लगाया है,लेकिन ग्राम कुशायता में इसकी अवहेलना की गई,इसे रोकने गए सरकारी कार्मिकों व पुलिस पर फैंके पत्थर

By: suresh bharti

Published: 15 May 2021, 12:40 AM IST

ajmer अजमेर/सावर. कोरोना संक्रमण के चलते धार्मिक, सामाजिक व पारिवारिक समारोह प्रतिबंधित है। लोॅकडाउन के चलते विवाह समारोह भी नहीं किए जा सकते। इसके बावजूद सावर तहसील क्षेत्र के ग्राम कुशायता का झौपड़ा में गुरुवार रात शादी समारोह में डीजे पर बिन्दौरी निकालकर कोरोना महामारी गाइडलाइन का उल्लंघन किया गया। समझाइश के लिए मौके पर पहुंचे सरकारी कर्मचारियों व पुलिस पर आयोजकों ने पथराव कर दिया। इससे पुलिस वाहन का शीशा टूट गया तथा सरकारी कर्मचारी के चोट लगी। साथ में बाइक क्षतिग्रस्त हो गई।

डीजे पर गूंजे गीत और छलके जाम

गांव कुशायता का झौपड़ा में गुरुवार रात बागरिया समाज में शादी समारोह था। परिवार वालों की ओर से दूल्हे की डीजे पर बिन्दौरी निकालना शुरू कर दिया। इसमें बड़ी संख्या में लोग उमड़ पड़े। बिन्दौरी में शामिल लोग शराब के नशे में हगंामा करने लगे। कोरोना महामारी गाइड लाइन का उल्लंघन करने की शिकायत मिलने पर ग्राम पंचायत कुशायता में कार्यरत कनिष्ठ लिपिक रमेश खारोल व बीएलओ शिक्षक गजराजसिंह मीणा मौके पर पहुंचे और गाइड लाइन का हवाला देते हुए समझाइश कर बिन्दौरी नहीं निकालने की अपील की।

समझाइश पर भी नहीं माने,बाद में भागे

इस दौरान आयोजकों ने आक्रोशित होकर पथराव शुरू कर दिया। इससे बीएलओ शिक्षक मीणा के चोट लगने के साथ उनकी बाइक क्षतिग्रस्त हो गई। जैसे-तैसे दोनों कर्मचारी जान बचाकर मौके से भागे। सूचना मिलने पर सावर थाने से एएसआई सरदार सिंह कुछ पुलिसकर्मियों के साथ मौके पर पहुंचे तो आयोजकों ने पुलिस पर भी पथराव शुरू कर दिया।

इससे पुलिस के वाहन का शीशा क्षतिग्रस्त हो गया। इसकी सूचना मिलने पर सावर थानाप्रभारी लक्ष्मीनारायण गुर्जर ने आला अधिकारियों को सूचना दी। बाद में अतिरिक्त पुलिस जाप्ता लेकर मौके पर पहुंचे। तब तक पथराव करने वाले एवं कार्यक्रम आयोजक मौके से भाग गए। शादी समारोह के घर में सन्नाटा पसर गया।

22 आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज

उधर, सावर थाना पुलिस ने बीएलओ शिक्षक की रिपोर्ट पर राजकार्य में बाधा पहुंचाने के साथ सरकारी कार्मिकों पर हमला कर सरकारी सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाने के आरोप में रामप्यारी बागरिया, देबी बागरिया, मोहन, कमला, लाला, बन्ना, शांति, धन्ना, जगदीश, राधाकिशन, सोनू कालबेलिया, सांवरा कालबेलिया समेत 22 आरोपियों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया। मामले की जांच केकड़ी पुलिस उपाधीक्षक खींवसिंह कर रहे हैं।

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned