scriptBullion market opened after assurance of police and administration | पुलिस व प्रशासन के आश्वासन के बाद खुला सर्राफा बाजार | Patrika News

पुलिस व प्रशासन के आश्वासन के बाद खुला सर्राफा बाजार

कस्बे मेंं सर्राफा व्यवसायी से चौथ मांगने के विरोध मेें गुरुवार को बंद किया बाजार आरोपी को गिरफ्तार करने तथा पुलिस-प्रशासन की समझाइश के बाद शुक्रवार को खुल गए। इसके बाद शुक्रवार को पुलिस-प्रशासनिक अधिकारियों ने सर्राफा व्यवसायियों के साथ बैठक कर वार्ता की।

अजमेर

Published: February 26, 2022 02:00:40 am

बसेड़ी. कस्बे मेंं सर्राफा व्यवसायी से चौथ मांगने के विरोध मेें गुरुवार को बंद किया बाजार आरोपी को गिरफ्तार करने तथा पुलिस-प्रशासन की समझाइश के बाद शुक्रवार को खुल गए। इसके बाद शुक्रवार को पुलिस-प्रशासनिक अधिकारियों ने सर्राफा व्यवसायियों के साथ बैठक कर वार्ता की। उल्लेखनीय है कि कस्बे के बयाना मोड़ के पास बुधवार रात स्वर्णकार व्यवसाई कमल सोनी के घर पहुंच कर दो बदमाशों ने एक लाख की चौथ की मांग करते हुए जान से मारने की धमकी दी थी। जिसके विरोध में स्वर्णकार दुकानदारों ने गुरुवार को पूरे दिन बाजार बंद रखा। इसके बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार भी कर लिया। इस दौरान प्रशासन और पुलिस की ओर से दिए गए आश्वासन के बाद स्वर्णकारों की ओर से शुक्रवार दोपहर बाद बाजार खोल दिया गया। वहीं पुलिस ने आरोपी सुग्रीव ठाकुर को गुरुवार को ही गिरफ्तार कर लिया था, जबकि तहसीलदार निवासी हरजूपुरा फरार है। जिसकी पुलिस तलाश कर रही है। कानून का राज, डरने की नहीं जरूरत
पुलिस व प्रशासन के आश्वासन के बाद खुला सर्राफा बाजार
पुलिस व प्रशासन के आश्वासन के बाद खुला सर्राफा बाजार
उपखंड कार्यालय में उपखंड अधिकारी सुभाष यादव की अध्यक्षता में स्वर्णकार तथा प्रशासन और पुलिस अधिकारियों के बीच बैठक हुई। इस दौरान प्रशासन और पुलिस ने दुकानदारों को आश्वासन दिया। उपखंड अधिकारी यादव ने कहा कि बदमाशों का राज नहीं है। कानून का राज है, किसी को डरने और परेशान होने की जरूरत नहीं है। सरमथुरा डीएसपी राजेश चौधरी ने भरोसा दिलाया कि बदमाशों को पुलिस किसी भी सूरत में नहीं छोड़ेगी। आम आदमी भी बदमाशों को सजा दिलाने में पुलिस का सहयोग करें। पुलिस और प्रशासन के आश्वासन के बाद दुकानदारों ने दोपहर बाजार खोल लिया।
बदमाशों से सांठगांठ रखने वालों के नाम आए सामने
बैठक में कई ऐसे युवाओं के नाम आए, जो कस्बे में अशांति फैलाने में सहयोग प्रदान कर रहे हैं। था असामाजिक तत्व तथा बदमाशों से सांठगांठ रखते हैं। जिसकी वजह से कस्बे में गुटबाजी बनी हुई है। पुलिस ने सांठगांठ रखने वाले आरोपियों के नाम गुप्त रखे हैं। दुकानदारों ने बताया कि स्वर्णकार दुकानदार तथा कई ऐसे और भी दुकानदार शामिल हैं, जो ऐसे बदमाशों तथा चौथ वसूली के शिकार हुए हैं। इनके द्वारा इन बदमाशों को भडक़ा कर फोन पर चौथ वसूली की धमकी पिछले कई महीनों से चली आ रही है। इसके चलते कई युवा इनको चौथ भी दे चुके हैं। दुकानदारों ने सहयोग करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।
आमजन पुलिस का करें सहयोग
बैठक के दौरान थाना प्रभारी लक्ष्मण सिंह ने कहा कि किसी भी व्यक्ति के पास इस तरह की सूचना कोई बदमाश देता है, फोन करता है तो तुरंत पुलिस को सूचना दें। कहा कि पुलिस और प्रशासन जब तक बदमाशों पर अंकुश नहीं लगा सकती, जब तक आम आदमी का सहयोग नहीं मिले। सर्राफा संघ अध्यक्ष सुभाष सोनी ने कहा कि दुकानदार नकदी तथा जेवरात लेकर आवागमन करता है। ऐसे में बदमाश रेकी करते हैं। इसके लिए गश्त व्यवस्था पुख्ता इंतजाम करने की मांग रखी। प्रशासन की ओर से सभी दुकानदारों को दुकानों के ऊपर सीसीटीवी कैमरे लगाने तथा घरों के सामने सीसीटीवी कैमरे लगाने के लिए कहा गया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

DGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्डIPL 2022 के समापन समारोह में Ranveer Singh और AR Rahman बिखेरेंगे जलवा, जानिए क्या कुछ खास होगाबिहार की सीमा जैसा ही कश्मीर के परवेज का हाल, रोज एक पैर पर कूदते हुए 2 किमी चलकर पहुंचता है स्कूलकर्नाटक के सबसे अमीर नेता कांग्रेस के यूसुफ शरीफ और आनंदहास ग्रुप के होटलों पर IT का छापाPM Modi in Gujarat: राजकोट को दी 400 करोड़ से बने हॉस्पिटल की सौगात, बोले- 8 साल से गांधी व पटेल के सपनों का भारत बना रहाOla, Uber, Zomato, Swiggy में काम करके की पढ़ाई, अब आईटी कंपनी में बना सॉफ्टवेयर इंजीनियरपंजाब की राह राजस्थान: मंत्री-विधायक खोल रहे नौकरशाही के खिलाफ मोर्चा, आलाकमान तक शिकायतें
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.