video : भीषण गर्मी में पानी को तरस रहे मवेशी

Preeti Bhatt

Publish: May, 11 2019 01:12:40 PM (IST)

Ajmer, Ajmer, Rajasthan, India

अनदेखी के चलते बने है ऐसे हालात...

ओमप्रकाश चौधरी/ पीसांगन .गर्मी बढऩे के साथ ही पानी की जरूरत भी बढऩे लगी है, बीसलपुर बांध में पानी की कमी के चलते जिले में जलसंकट के हालात भी बन गए हैं। एक ओर जहां इंसान पानी की कमी से परेशान है वहीं मवेशी भी पानी के लिए तरस रहे हेंैं।
पीसांगन उपखंड़ क्षेत्र के ग्राम रामपुरा-डाबला में भीषण गर्मी में मवेशी पानी के लिए तरसने को मजबूर है। ग्रामीणों ने प्रशासन पर अनदेखी के आरोप लगाते हुए कहा कि मवेशियों के लिए पानी की समस्या अधिक विकराल हो गई। यही हालात रहे तो मवेशियों की खातिर पशुपालक आंदोलन करने पर मजबूर हो सकते है। ग्रामीणों के अनुसार गांव में तेजाजी मन्दिर के पास पर्याप्त पानी का ट्यूबवेल है। लेकिन बिजली का बिल जमा नही होने के कारण उसका विद्युत कनेक्शन काट दिया गया। वहीं डेयरी के पास स्थित ट्यूबवेल भी बन्द पड़ा है। साथ ही माताजी के पास स्थित ट्यूबवेल लम्बे अंतराल से बंद होने के कारण उसे सीसी ब्लॉक के नीचे दबाकर हमेशा के लिए बंद कर दिया गया।

गांव के आधे से ज्यादा हैंडपम्प पानी के बिना मृत घोषित कर दिए गए। ऐसे हालात में बिना पानी मवेशियों को पालना मुश्किल हो गया। ग्रामीणों ने तेजा मन्दिर ट्यूबवेल का बकाया बिल जमा करवाकर उसे वापस चलाने और डेयरी के पास स्थित ट्यूबवेल को दुरस्त करवाकर चलाने की मांग की है। इस दौरान नेमीचंद पड़ौदा शिवजी गैना, भरत वैष्णव, संजय फुलवारी, गोविंद वैष्णव, मुकेश करेसिया, कैलाश पड़ौदा, जुगराज पड़ौदा तेजाराम भैरा, सलीम खान, महिपाल करेसिया, सुनील भैरा, भागचंद कस्वा आदि मौजूद थे।
बाइट-नेमीचंद पड़ौदा,ग्रामीण।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned