CBSE: सिलेबस होने चाहिए 50 फीसदी कम, स्कूल से मांगा सुझाव

बोर्ड ने फिलहाल सिलेबस में 30 फीसदी कटौती की है। दसवीं और बारहवीं कक्षा के सिलेबस में और कटौती की उठी मांग।

By: raktim tiwari

Updated: 23 Oct 2020, 04:34 PM IST

अजमेर.

सीबीएसई ने दसवीं और बारहवीं कक्षा के सिलेबस में 50 फीसदी कटौती को लेकर कोई फैसला नहीं किया है। फिलहाल बोर्ड ने देश के सभी स्कूल से राय मांगी है। इसके बाद ही सिलेबस को लेकर निर्णय लिया जाएगा।

कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन के चलते सीबीएसई स्कूल में 1 अप्रेल से सत्र शुरू नहीं हो पाया था। स्कूल नहीं खुलने से विद्यार्थियों की पढ़ाई का नुकसान हुआ। इसके चलते बोर्ड ने जुलाई में दसवीं-बारहवीं के कोर्स मेंं 30 फीसदी कटौती की। पंजाब, यूपी को छोड़कर अधिकांश राज्यों में स्कूल बंद हैं। बोर्ड से कई परिजनों,विद्यार्थियों की तरफ से सिलेबस में 50 फीसदी कटौती की मांग की है।

सैंपल पेपर अपलोड
बोर्ड ने दसवीं-बारहवीं के 70 फीसदी सिलेबस के अनुरूप सैंपर पेपर अपलोड किए हैं। विद्यार्थी वेबसाइट पर इनका अवलोकन कर सकते हैं बारहवीं में फिजिक्स, केमिस्ट्री, राजनीति विज्ञान,गणित और दसवीं में गणित, विज्ञान और सामाजिक विज्ञान विषय के सिलेबस कम करने की मांग ज्यादा उठी है। हालांकि स्कूल ने 50 फीसदी सिलेबस कटौती पर स्कूल शिक्षकों-बुद्धिजीवियों से राय भी मांगी है।

गणित पेपर का पैटर्न समान
दसवीं और बारहवीं का गणित विषय का पैटर्न समान रखा गया है। पिछले साल की तरह दसवीं के गणित का पेपर बेसिक अैार स्टैंडर्ड पद्धति अनुसार होगा। बोर्ड की मानें तो सिलेबस में कटौती और पैटर्न समान होने से विद्यार्थियों को ज्यादा परेशानी नहीं होगी।

अनुपस्थित रहने वाले अभ्यर्थियों की काउंसलिंग 27 से

अजमेर. राजस्थान लोक सेवा आयोग में प्राध्यापक-(स्कूल शिक्षा) प्रतियोगी परीक्षा-2018 के छह विषयों की काउंसलिंग जारी है। इस काउंसलिंग में किसी कारण से अनुपस्थित अभ्यर्थियों को अंतिम अवसर दिया जाएगा। सचिव शुभम चौधरी ने बताया कि आयोग परिसर में छह विषयों की काउंसलिंग 5 अक्टूबर से जारी है। इनमें भूगोल, जीव विज्ञान, अर्थशास्त्र, लोक प्रशासन और संगीत विषय की काउंसलिंग हो चुकी है। राजनीति विज्ञान विषय की 26 अक्टूबर तक चलेगी।

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned