Challenge: कफ्र्यू में व्हीकल कम, फिर भी बढ़ा पॉल्यूशन का ग्राफ

अजमेर में भी वाहनों से उत्सर्जित और आयरन उद्योग के धुएं से हवा प्रदूषित रहती है। जहरीला धुआं शहर की हरियाली और लोगों की सेहत बिगाड़ रहा है।

By: raktim tiwari

Updated: 22 Apr 2021, 08:53 AM IST

अजमेर. कोरोना वायरस से बचाव के लिए जारी कफ्र्यू का पर्यावरण पर खास असर नहीं दिखा है। सड़कों पर वाहन भले कम हुए, लेकिन प्रदूषण स्तर में ज्यादा कमी नहीं हुई है।

जिले के ब्यावर में सीमेंट फैक्ट्रियां, पत्थर पीसने की छोटे-बड़ी इकाइयां हैं। किशनगढ़ में मार्बल-ग्रेनाइट यूनिट हैं। श्रम आधारित उद्यमों में छूट के चलते पाउडर और धुएं से आमदिनों में की तरह प्रदूषण बरकार है। अजमेर में भी वाहनों से उत्सर्जित और आयरन उद्योग के धुएं से हवा प्रदूषित रहती है। जहरीला धुआं शहर की हरियाली और लोगों की सेहत बिगाड़ रहा है।

वीकेंड कफ्र्यू में थी राहत
सरकार ने 17 और 18 अप्रेल को वीकेंड कफ्र्यू लगाया था। दो दिन सड़कों पर वाहन कम चले थे। दो दिन में एयर क्वालिटी इंडेक्स का स्तर 97 से 99 के बीच था। जबकि 10 से 15 अप्रेल के बीच यह 120 से 122 तक रहा था। मालूम हो कि पिछले साल लॉकडाउन के दौरान वाहन, फैक्ट्रियां, दुकानें बंद रही थीं। इस दौरान अजमेर जिले में एयर क्वालिटी इंडेक्स 40 से 45 पर पहुंच गया था।

तीन दिन में नहीं खास कमी
सोमवार से बुधवार को सड़कों पर टेम्पो, दोपहिया-चौपहिया वाहनों के संचालन से प्रदूषण फिर बढ़ गया है। वीकेंड कफ्र्यू में रहा एयर क्वालिटी इंडेक्स बढ़कर वापस 100 से 105 तक पहुंच गया है। दूध, सब्जी और आवश्यक सेवाओं सहित कई लोगों के फिजूल वाहन संचालन से यह स्थिति बनी हुई है।

कचरे में नहीं आई कमी
करीब 8 लाख की आबादी वाले शहर में कचरा-गंदगी बड़ी समस्या है। नगर निगम शहर के अंदरूनी-बाहरी इलाकों से डोर टू डोर कचरा संग्रहण करता है। करीब 5 हजार टन कचरा सेंदरिया ट्रेचिंग ग्राउन्ड भेजा जाता है। वीकेंड कफ्र्यू और जन अनुशासन पखवाड़ जारी होने के बावजूद बाजारों, गलियों और अन्य स्थानों पर कचरे में कमी नहीं आई है।

अब तक प्रदूषण स्तर
10 से 15 अप्रेल तक-120 से 135 तक
17-18 अप्रेल-97 से 99 तक
19 से 21 अप्रेल-100 से 105 तक
(आंकड़े एयर क्वालिटी इंडेक्स में )

जन अनुशासन पखवड़ा या कफ्र्यू कोरोना संक्रमण सुरक्षा के लिए लागू किया गया है। हमें इसकी पालना करनी चाहिए। जरूरी और बेहद आवश्यक कार्य हो तो घरों से निकले। वीकेंड कफ्र्यू में एयर क्वालिटी इंडेक्स 99 तक रहा था। यह फिर से 100 के पार पहुंचा है तो हमें शुद्ध हवा और ऑक्सीजन उपलब्धता के लिए खुद पर अंकुश लगाने की जरूत है।
डॉ. आलोक चतुर्वेदी, केमिस्ट्री रीडर, जीसीए अजमेर

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned