जीत की तरफ बढ़ते चौधरी, देखिए उनका विधायक से सांसद बनने का सफर

जीत की तरफ बढ़ते चौधरी, देखिए उनका विधायक से सांसद बनने का सफर

Preeti Bhatt | Publish: May, 23 2019 01:37:43 PM (IST) | Updated: May, 23 2019 01:37:44 PM (IST) Ajmer, Ajmer, Rajasthan, India

भाजपा के भागीरथ चौधरी को अजेय बढ़त मिल चुकी है। जीत के लिहाज से भाजपा ने 2014 का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। चौधरी को 3 लाख से ज्यादा वोट मिल चुके है।

अजमेर. सिर्फ डेढ़ साल में अजमेर संसदीय क्षेत्र ने चुनाव के अलग-अलग रंग देख लिए। जहां पिछले साल जनवरी में हुए लोकसभा उप चुनाव में कांग्रेस ने जीत हासिल की थी। वहीं महज एक साल बाद भाजपा ने मुख्य चुनाव में जबरदस्त तरीके से वापसी करते हुए पासा पलट दिया। भाजपा के भागीरथ चौधरी को अजेय बढ़त मिल चुकी है। जीत के लिहाज से भाजपा ने 2014 का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। चौधरी को 3 लाख से ज्यादा वोट मिल चुके है।

दो बार रहे किशनगढ़ से विधायक
भागीरथ चौधरी मूलत: मार्बल व्यवसायी रहे हैं। उन्हें लंबे अर्से तक एक निजी फर्म में कामकाज किया। 2003 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने उन्हें किशनगढ़ से टिकट दिया। चौधरी ने किशनगढ़ के तत्कालीन विधायक नाथूराम सिनोदिया को हराकर पहली बार विधानसभा में कदम रखा। लेकिन 2008 में मामला बदल गया। तब हुए विधानसभा चुनाव में सिनोदिया ने उन्हें फिर पटखनी दे डाली। 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में चौधरी ने फिर बाजी पलट दी। वे सिनोदिया को दूसरी बार हराकर विधायक बने। 2018 के चुनाव में भाजपा ने उनका किशनगढ़ से टिकट काट दिया। इससे चौधरी और उनके समर्थकों में नाराजगी भी थी। अब होंगे अजमेर के सांसद

2019 में भाजपा ने चौधरी को अजमेर लोकसभा सीट से टिकट दिया। चौधरी ने भाजपा की टीम के भरोसे चुनाव लड़ा और इसमें सफल भी होते दिख रहे हैं। अजमेर के नए सांसद के रूप में उनका निर्वाचन तय हो चुका है। अब केवल औपचारिकता बाकी रह गए है। अब तक विधायक रहे चौधरी पहली बार संसद में कदम रखेंगे।

बनाया भागीरथ ने रिकॉर्ड
2014 में तत्कालीन जल संसाधन मंत्री प्रो. सांवरलाल जाट ने मौजूदा उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट को 1 लाख 84 हजार वोट से हराया था। यह अजमेर संसदीय क्षेत्र की सबसे बड़ी हार थी। लेकिन इस बार भाजपा के भागीरथ चौधरी इस रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया है। उन्हें 6 लाख 35 हजार 695 से ज्यादा वोट मिले हैं। झुनझुनवाला को 3 लाख 17 हजार 676 वोट मिले हैं। इस लिहाज से चौधरी 3 लाख से ज्यादा वोट लेकर झुनझुनवाला से आगे हैं।एक साल में बदली तस्वीरजाट की 2017 में मृत्यु हो गई थी। उनकी मृत्यु के बाद जनवरी 2018 में अजमेर संसदीय क्षेत्र के लिए उप चुनाव हुए। कांग्रेस की तरफ से डॉ. रघु शर्मा और भाजपा से जाट के पुत्र रामस्वरूप लांबा ने चुनाव लड़ा। डॉ. शर्मा ने 80 हजार से ज्यादा मतों से लांबा को शिकस्त देकर कांग्रेस को विजयी बनाया। उस वक्त प्रदेश की तत्कालीन भाजपा सरकार के कामकाज को लेकर जनता में काफी नाराजगी रही थी। इसका कांग्रेस को फायदा मिला था।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned