बिना अनुमति पोस्टर-बैनरों से अटा शहर

आचार संहिता की खुल कर उड़ रही, धज्जियां प्रशासन देखकर भी बना मूक

नगर निकाय चुनाव को लेकर नामांकन प्रक्रिया शुरू हो गई है लेकिन आचार संहिता लगी होने के बाद भी बिना अनुमति ही चुनाव लडऩे वाले उम्मीदवारों ने अपने बैनर-पोस्टरों से शहर की दिवारें अट गई है। नगर परिषद या प्रशासन को इसकी जानकारी है, लेकिन इसके बावजूद नोटिस तक नहीं दिए हैं।

By: Dilip

Published: 24 Nov 2020, 11:36 PM IST

धौलपुर. नगर निकाय चुनाव को लेकर नामांकन प्रक्रिया शुरू हो गई है लेकिन आचार संहिता लगी होने के बाद भी बिना अनुमति ही चुनाव लडऩे वाले उम्मीदवारों ने अपने बैनर-पोस्टरों से शहर की दिवारें अट गई है। नगर परिषद या प्रशासन को इसकी जानकारी है, लेकिन इसके बावजूद नोटिस तक नहीं दिए हैं।

आचार संहिता का उल्लंघन

नगर निकाय चुनाव की आचार संहिता लगने के बाद कोई भी पोस्टर बैनर लगाकर अपना प्रचार नहीं कर सकता है। हालांकि नामांकन दाखिल करने के बाद उम्मीदवार घोषित होने पर लगाए जाने वाले पोस्टर बैनरों को प्रचार सामग्री मानकर उनके खर्च में समाहित किया जाता है लेकिन शहर में पहले ही चुनाव लडऩे के इच्छुक लोगों ने पोस्टर चस्पा कर दिए हैं। यह भी नगर निकाय के सम्पत्ति विरुपण अधिनियम के तहत आता है। जो बिना अनुमति के नहीं लगाए जा सकते हैं।

पोस्टर के माध्यम से कर रहे खुद को प्रोजेक्ट

जिला मुख्यालय पर नगर परिषद का चुनाव लडऩे के इच्छुक लोगों ने दीपावली त्योहार की शुभकामनाओं के पोस्टर चिपका कर खुद की दावेदारी जताना शुरू कर दिया है। आगामी दिनों में इनमें से कइयों की ओर से नामांकन पत्र दाखिल किए जाएंगे। वहीं कइयों के अरमाना धूमिल भी होंगे।

सोशल मीडिया पर भी प्रचार शुरू
उम्मीदवारों ने पोस्टर-बैनर के साथ उनके समर्थकों ने सोशल मीडिया पर भी प्रचार करना शुरू कर दिया है। ऐसे में नए-नए तरीके से खुद को पेश कर रहे हैं। कइयों ने नए पेज बनाए हैं तो कोई ने वार्डवासियों के ग्रुप बना लिए हैं। जिन पर वार्ड पार्षद बनने पर विकास कराने का दम भर रहे हैं। वहीं पुराने पार्षद खुद के काम गिना कर फिर से वोट देने की बात कह रहे हैं। लेकिन वार्डवासी भी सबको खुश करने में लगे हैं। वे किसी के सामने स्वयं के पत्तों को नहीं खोल रहे हैं।

तब दिखाई थी परिषद ने तत्परता

हालांकि आचार संहिता लागू होते ही पहले दिन ही नगरपरिषद ने तत्परता दिखाते हुए पूर्व में विभिन्न चौराहों पर लगे पोस्टर बैनरों को हटवा दिया था, लेकिन बाद में उम्मीदवारों ने विभिन्न मोहल्लों तथा बाजारों में अपने दीपावली त्योहार की शुभकामना देते हुए फिर से पोस्टर चिपका दिए हैं। लेकिन नगरपरिषद ने कोई कार्रवाई नहीं की है।

इनका कहना है

अगर शहर में पोस्टर-बैनर लगे हुए हैं तो सम्पत्ति विरुपण अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी। अभी तक नगरपरिषद से किसी ने अनुमति नहीं ली है। साथ ही इस सम्बंध में निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी को भी कार्रवाई के लिए लिखा जाएगा।

सौरभ जिंदल, आयुक्त, नगर परिषद, धौलपुर।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned