Cold ajmer: कड़ाके की सर्दी में जकड़ा अजमेर, ठिठुरा रही शीतलहर

नलों का पानी बर्फ जैसा ठंडा है। धूप निकले के बाद मौसम कुछ सामान्य हुआ। सर्द हवा और गलन ने लोगों का ज्यादातर वक्त गुनगुनी धूप में बीता है।

By: raktim tiwari

Updated: 16 Dec 2020, 09:40 AM IST

अजमेर. जाते साल में समूचा राजस्थान सर्दी की जकड़ में है। बुधवार को भी अजमेर जिला बर्फीली हवा, गलन और कडा़के की ठंड से बुरी तरह कंपकंपाया। लोगों को केवल धूप से ही कुछ राहत मिली है। न्यूनतम तापमान लुढ़कता हुआ 10 डिग्री पर पहुंच गया है।

अलसुबह कड़ाके की ठंड के चलते लोग घरों में कैद रहे। सैर करने वालों को छोड़ककर सड़कों पर सन्नाटा सा पसरा रहा। बर्फीली हवा शरीर में नश्तर चुभो रही है। नलों का पानी बर्फ जैसा ठंडा है। धूप निकले के बाद मौसम कुछ सामान्य हुआ। सर्द हवा और गलन ने लोगों का ज्यादातर वक्त गुनगुनी धूप में बीता है।
जनजीवन पर असर
सर्दी का असर जनजीवन पर असर कायम है। देर रात सड़कों के किनारे लोग अलाव के सहारे बैठकर ठंड से राहत पाते नजर आए है। नाइट कफ्र्यू और कड़ाके की सर्दी के कारण सड़कों और बाजारों में सन्नाटा पसरा दिखता है।

मौसम में आगे क्या...
-शीतलहर के कारण मौसम विभाग ने रेड वॉर्निंग जारी की है। आगामी सप्ताह में देश-प्रदेश के कई हिस्सों में बारिश का अलर्ट भी है।
-कुछ राज्यों में येलो अलर्ट जारी किया गया है। राजस्थान, यूपी, छत्तीसगढ़ और अन्य राज्यों में शीतलहर की चेतावनी दी गई है।
-राजस्थान सहित कई राज्यों में पाला पडऩे की चेतावनी दी गई है।
-हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और कश्मीर में बर्फबारी से ठंड बढऩे के आसार हैं।

...जब 4 डिग्री से नीचे पारा
शहर कड़ाके की ठंड से कंपकंपाने लगा है। साल 2017 में 13 जनवरी अजमेर का सबसे सर्द दिन रहा था। इस दिन पारा पिछले सभी रिकॉर्ड तोड़ता हुआ 3.0 डिग्री पर पहुंच गया था। इसके बाद साल 2018 और 2019 में 27 दिसंबर को पारा 4 डिग्री पर पहुंचा था। इसके बाद पिछले साल 29 दिसंबर को तापमान 3.5 डिग्री रहा था।

Show More
raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned