लम्बे इंतजार के बाद शुरु हुआ साइंस सेंटर का निर्माण

पूर्व मंत्री वासुदेव देवनानी ने रखी थी आधारशिला

15.20 करोड़ रूपए होंगे खर्च

By: bhupendra singh

Published: 07 Sep 2021, 09:35 PM IST

अजमेर. करीब तीन साल की देरी से ही सही लेकिन अजमेर में साइंस सेंटर का निर्माण शुरु हो गया है। अजमेर विकास प्राधिकरण ने इसके लिए 20,341 वर्ग मीटर भूमि झलकारी बाई स्मारक के सामने साइंस सेंटर (विज्ञान केंद्र) के लिए निशुल्क उपलब्ध करवाई गई है। साइंस पार्क के निर्माण पर 15.20 करोड़ रूपए खर्च होंगे। केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा 50-50 प्रतिशत का राशि का अंशदान किया जाएगा। साइंस पार्क में मुख्य रूप से स्थाई गैलरी जैसे थीम बेस पार्क,फन साइंस पार्क, आउट डोर साइंस पार्क,तारा मंडल (प्लेनेटोरियम), विकसित अनुसंधान केंद्र प्रदर्शनी (एग्जिहिबिट डवलपमेंट लेबोरेटरी), साइंस लाइब्रेरी, कॉन्फ्रेस रूम व कार्यालय स्टोर इत्यादि का निर्माण किया जाएगा।

केंद्र सरकार द्वारा नेशनल काउंसिल ऑफ साइंस म्यूजियम कोलकाता को कार्य आवंटित किया गया है। सांइस म्यूजिम का रख रखाव का कार्य डीएसटी विभाग द्वारा किया जाएगा। भूमि के समतलीकरण का कार्य नगर निगम कर रहा है। भूमि का मृदा परीक्षण भी करवाया जाएगा।

साइंस सेंटर का उद्देश्य

छात्रों व दर्शकों में वैज्ञानिक दृष्टिकोण और सोच जगाने, प्रोत्साहित करने सहित जिज्ञासाओं को पूरा करने के लिए रोचक जानकारी मिलेगी। अभिनव व प्रायोगिक गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा, विज्ञान को लोकप्रिय बनाने और संचार के माध्यम से विकसित किया जाएगा,प्रौद्योगिकी और उपकरणों के विकास की प्रक्रिया बताई जागी। सेंटर में भौतिकी (फिजिक्स) एवं गणित से जुड़े विभिन्न साइंस मॉडल प्रदर्शित किए जाएंगे। साथ ही मनुष्य के विकास की कहानी से लेकर तारामंडल तक के विभिन्न वैज्ञानिक पहलुओं को समझाने के लिए मॉडल और पार्क विकसित किए जाएंगे। यहां पर एक लाइब्रेरी भी होगी, जिसमें विज्ञान से जुड़ी पुस्तकें व विभिन्न पाठ्य सामग्री उपलब्ध होगी। वनस्पतियों व पेड़-पौधों के उपयोग की जानकारी भी दी जाएगी।

read more:भीलवाड़ा उदयपुर की विद्युत व्यवस्था होगी 'हाईटेकÓ

Show More
bhupendra singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned