Corona impact: 72 साल में पहली बार कैंपस सूने, स्टूडेंट्स ना ऑफलाइन क्लास

सत्र 2020-21 की शुरुआत अगस्त या सितंबर में होती दिख रही है। सबसे ज्यादा दिक्कतें नए प्रवेश और कक्षाओं के संचालन की हैं।

By: raktim tiwari

Published: 01 Jul 2020, 08:31 AM IST

अजमेर.

स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी के कैंपस पहली बार सूने दिख रहे हैं। आजादी के 72 साल में यह पहला अवसर है जबकि कैंपस में ना स्टूडेंट्स हैं ना ऑफलाइन क्लास लगी है। कोरोना संक्रमण के चलते 31 जुलाई तक पूरे देश में ऐसा ही नजारा दिखने वाला है।

कोरोना संक्रमण के कारण देश के कई राज्यों में हालात ठीक नहीं हैं। केंद्र सरकार ने 31 जुलाई तक स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी को बंद रखने का फैसला यिा है। ऐसे में सत्र 2020-21 की शुरुआत अगस्त या सितंबर में होती दिख रही है। सबसे ज्यादा दिक्कतें नए प्रवेश और कक्षाओं के संचालन की हैं।

1 जुलाई यानि कैंपस में रौनक
आजादी के बाद प्रतिवर्ष स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी में 1 जुलाई अहम तिथि रही है। इस दिन सभी कैंपस में रौनक होती रही है। गर्मियों की छुट्टियों के बाद विद्यार्थी वापस कैंपस में लौटते थे। स्कूल के प्री-प्राइमरी और प्राइमरी के बच्चे तो रोते हुए स्कूल पहुंचते थे। सीबीएसई और अन्य बोर्ड के बारहवीं के विद्यार्थियों में ज्यादा उत्साह होता था। स्कूल की पढ़ाई खत्म होने और कॉलेजिएट बनने का उत्साह दिखता था।

इस बार कैंपस में सन्नाटा
कोरोना संक्रमण के चलते बुधवार यानि 1 जुलाई को सभी शैक्षिक संस्थानों में सन्नाटा पसरा है। स्कूल, कॉलेज अैार यूनिवर्सिटी में सिर्फ शिक्षक और स्टाफ ही नजर आया। विद्यार्थियों के बगैर कक्षाएं सूनी हैं। सड़कों और संस्थानों के आसपास वैन, ऑटो, टैम्पो की भीड़ भी नहीं दिखी।

ऑनलाइन क्लास पर रहेगा जोर
देश के सभी स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी में विद्यार्थियों की ऑफलाइन क्लास मुश्किल हैं। विद्यार्थी बीते मार्च से ही संस्थानों और कक्षाओं से दूर हैं। सभी संस्थानों में अप्रेल से ऑनलाइन कक्षाएं लगाई जा रही हैं। प्री. प्राइमरी से बारहवीं और स्नातक-स्नातकोत्तर स्तर के विद्यार्थियों को ऑनलाइन पढ़ाया जा रहा है।

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned