scriptCorona side effect : pendency of cases, prisoners increased in jail | Corona side effect : कोरोना ने इनको भी नहीं बख्शा | Patrika News

Corona side effect : कोरोना ने इनको भी नहीं बख्शा

अदालतों में टली सुनवाई, जेल में बढ़े विचाराधीन बंदी

सजायाफ्ता कैदियों की संख्या घटी

अजमेर

Published: May 06, 2022 01:56:57 am

अजमेर। काेरोना काल के दौरान अदालतों में मुकदमों की सुनवाई टलने का सीधा असर जेलों में बंदियों पर पड़ा है। प्रदेश की जेलों में प्रतिवर्ष औसतन सजा पाने वाले बंदियों की संख्या कम हुई और विचाराधीन कैदियों की तादाद बढ़ी है।
Corona side effect : कोरोना ने इनको भी नहीं बख्शा
Corona side effect : कोरोना ने इनको भी नहीं बख्शा
प्रदेश के जेलों की यह स्थिति एक रिपोर्ट में सामने आई है। इसके अनुसार प्रदेश की जेलों में 5 साल पहले जहां विचाराधीन बंदी करीब 14000 थे। वहीं दंडित कैदियों की संख्या 6000 थी। ताजा आंकड़ों के मुताबिक विचाराधीन बंदी अब करीब 18000 हैं जबकि दंडित कैदियों की संख्या 5000 है।
समिति में समीक्षा

विचाराधीन बंदियों के मामले की समीक्षा के लिए प्रत्येक जिले में एक समिति गठित होती है। इसके अध्यक्ष मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट, जिला मजिस्ट्रेट का प्रतिनिधि, पुलिस अधीक्षक का प्रतिनिधि, जिला परिवीक्षा अधिकारी, सहायक निदेशक अभियोजन, प्रभार अधिकारी सदस्य और जेल सदस्य सचिव होते हैं। लंबे समय से विचाराधीन रहते हुए जेल में बंद कैदियों के प्रकरणों की समीक्षा की जाती है। साथ ही निस्तारण के लिए सुझाव भी दिए जाते हैं। अधिकतम सजा के आधे भाग के बराबर विचाराधीन बंदी के प्रकरण पर विचार कर निर्णय किया जाता है।
पैरोल पर कम बाहर आए

वर्ष पैरोल स्थाई पैरोल पर रिहा

2019 1846 2032020 1609 147

2021 1410 143

समिति की समीक्षा में भी निस्तारण कम

वर्ष बैठकें प्रकरण निस्तारित प्रकरण
2019 342 53161 8462020 266 48162 279

2021 319 59572 333

वर्ष बंदी क्षमता कुल बंदी विचाराधीन दंडित

2017 21879 19724 14126 5544

2018 21892 20134 14509 5606

2019 22921 21597 15378 6187
2020 22907 22063 16930 5131

2021 22897 22938 17954 4962

अदालत ने खारिज की अपील

अजमेर. चेक अनादरण के एक मामले में बुधवार को सजा बहाल रखने का फैसला सुनने के बाद अभियुक्त अदालत से बिना बताए निकल गया। अदालत ने उसके गिरफ्तारी वारंट जारी किए हैं। चेक अनादरण मामलात अदालत के न्यायाधीश ने अभियुक्त की ओर से प्रस्तुत अपील खारिज करते हुए निचली अदालत के सजा व जुर्माने के फैसले को यथावत रखा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

Delhi LG Resigned: दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिया इस्तीफा, निजी कारणों का दिया हवालाIndia-China Tension: पैंगोंग झील पर बॉर्डर के पास दूसरा पुल बना रहा चीन, सैटेलाइट इमेज से खुलासाHeavy rain in bangalore: तेज बारिश से दो मजदूरों की मौत, मुख्यमंत्री ने की मुआवजे की घोषणाज्ञानवापी मस्जिद: नौ तालों में कैद वजूखाना, दो शिफ्टों में निगरानी कर रहे CRPF जवान, महंतो का नया दावापाकिस्तान व चीन बॉडर पर S-400 मिसाइल तैनात करेगा भारत, जानिए क्या है इसकी खासियतप्रयागराज में फिर से दिखा लाशों का अंबार, कोरोना काल से भयावह दृश्य, दूर-दूर तक दफ़नाए गए शवFarmers protest: विरोध कर रहे किसानों से मिलेंगे CM मान, आखिर क्यों धरने पर बैठे किसान?जब कांस के दौरान खो गई दीपिका पादुकोण की ड्रेस तो आखिरी समय में किया गया ये बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.