Corona Summer: वैशाख की गर्मी, अभी मई-जून है बाकी

लोग केवल जरूरी कामकाज के लिए ही सडक़ों पर नजर आए।

By: raktim tiwari

Published: 10 Apr 2020, 09:49 AM IST

अजमेर.

तेज धूप का असर दिखने लगा है। शुक्रवार सुबह से ही तेज धूप का असर दिख रहा है। वैशाख की गर्मी धीरे-धीरे असर दिखा रही है। गर्मी के लिहाज से अभी मई और जून बाकी हैं।
सुबह धूप निकलते ही मौसम में गर्माहट हो गई। लोग केवल जरूरी कामकाज के लिए ही सडक़ों पर नजर आए। गर्मी के चलते लोगों को पंखे चलाकर बैठना पड़ा। हवा की गर्माहट ने भी परेशान किया। कोरोना लॉकडाउन के चलते लोग घरों में ही कैद रहे।

Read More: Corona effect- पेंशनरों के खातों में कटौती की राशि जमा कराने की प्रक्रिया शुरू

गर्मी के असली महीने बाकी..
वैशाख की शुरुआत गर्मी से हुई है। बीते चैत्र में एक-दो दिन प्रदेश के कई जिलों में ओलावृष्टि, बरसात हुई थी। तापमान भी 27 से 29 डिग्री तक तक था। पिछले चार-पांच दिन से तापमान ने एकाएक रफ्तार पकड़ ली है। पिछले पांच दिन से लगातार 35 से 37 डिग्री के बीच कायम है। सूरज के तेवर तीखे रहने से इसमें लगातार बढ़ोतरी होने के आसार हैं। जबकि गर्मी के लिहाज से भीषण माने जाने वाले मई और जून अभी बाकी हैं।

Read More: Corona effect- पुष्कर के कालबेलिया परिवारों के लिए विदेशी पर्यटकों से सोशल मीडिया पर गुहार- खाने के हैं लाले

ऑनलाइन पढ़ाई में ज्यादा खर्च हो रहा नेट, कैसे पढ़ें दिनभर ...

रक्तिम तिवारी/अजमेर. सीबीएसई की काउंसलिंग सेवा कोरोना लॉकडाउन में विद्यार्थियों के लिए मददगार साबित हो रही है। दसवीं और बारहवीं के विद्यार्थी विशेषज्ञ परीक्षा की तैयारी, कॅरियर, परीक्षा के दौरान खान-पान और अन्य सलाह लेने में जुटे हैं। बोर्ड के परिणाम आने के बाद भी जारी रहेगी।

बोर्ड प्रतिवर्ष विद्यार्थियों के लिए काउंसलिंग सेवा शुरू करता है। इसमें दसवीं और बारहवीं के विद्यार्थी विषयों को लेकर तकनीकी समस्याएं, ग्यारहवीं में नए विषयों के चयन, कॅरियर परामर्श, उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रवेश और अन्य परामर्श शामिल होते हैं। इस बार भी 1 फरवरी से बोर्ड की काउंसलिंग सेवा जारी है।

विशेषज्ञों से ले रहे परामर्श

विद्यार्थियों को परीक्षा की योजनाबद्ध तैयार सहित तनाव और दबाव को कम करने जैसे परामर्श देने के लिए सीबीएसई ने विशेषज्ञों की सेवाएं ली हैं। काउंसलिंग सेवा कोरोना लॉकडाउन में काफी लाभदायक साबित हो रही है। विद्यार्थी मोबाइल, लैंडलाइन अथवा टोल फ्री नम्बर पर विशेषज्ञों से सलाह ले रहे हैं। स्कूल के प्राचार्य शिक्षक, विशेषज्ञ और मनोविज्ञानी इससे जुड़े हैं।

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned