अजमेर जिले में कोरोना बेकाबू,एक ही दिन में 403 पॉजिटिव केस से लोगों में फैली दहशत,प्रशासन अलर्ट

कोरोना की दूसरी लहर ने लोगों को डरा दिया,यह बीमारी थमने की बजाए और अधिक फैल रही है,अब तो शहरों के साथ-साथ जिले के गांव/कस्बे एवं ढाणियों में भी कोरोना संक्रमित रोगी मिल रहे हैं

By: suresh bharti

Published: 20 Apr 2021, 12:46 AM IST

ajmer अजमेर. जिले में कोरोना ने लोगों को काफी डरा दिया है। कोरोना संक्रमण रोगियों का ग्राफ जिस गति से बढ़ रहा है। उससे लगता है कि चिकित्सा महकमे के पास संसाधनों की कमी हो सकती है। वैसे यह आशंका फिलहाल निर्मूल है, लेकिन हालात नहीं सुधरे तो स्थिति भयावह हो सकती है। पिछले दिनों के मुकाबले सोमवार को जिलेभर में 403 नए मामले सामने आए हैं। वहीं मौतों का सिलसिला भी जारी है।

सर्वाधिक संक्रमित के कॉन्टेक्ट वाले

सरकारी आंकड़ों के अनुसार कोरोना से एक मौत हुई है, जबकि सरकारी अस्पताल में कोरोना से दम तोडऩे वालों की संख्या कहीं ज्यादा बताते हैं। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अनुसार कोरोना संक्रमण के नए मामलों में सर्वाधिक संक्रमित के कॉन्टेक्ट वाले हैं। कोरोना संक्रमण की चपेट में आने वाले लोगों के परिवार के अन्य सदस्य सर्वाधिक हैं। अजमेर शहर के अलावा ब्यावर, केकड़ी, बिजयनगर, नसीराबाद, पुष्कर, जवाजा, मसूदा, किशनगढ़, अरांई, श्रीनगर, भिनाय ब्लॉक में भी संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं।

अजमेर शहर के इन क्षेत्रों में आए संक्रमित

शहर के कोटड़ा, प्रगति नगर, महाराणा प्रतापनगर, रामगंज, पहाडग़ंज, पंचशील, शास्त्रीनगर, अंदरकोट, लौंगिया मोहल्ला, केसरगंज, डिग्गी बाजार, अजयनगर, ऊर्सरी गेट, भगवानगंज, चन्द्रवरदाई नगर, वैशाली नगर, आगरा गेट, नया बाजार, नला बाजार, उतार घसेटी, रामनगर, फॉयसागर रोड सहित अन्य क्षेत्रों में पॉजिटिव केस आए हैं।

अजमेर में कोरोना संक्रमित दर 26 प्रतिशत

जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की दर 26 प्रतिशत तक पहुंच गई है। जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज की माइक्रोबायोलॉजी लैब में सोमवार को आए करीब 600 सैंपल में से 178 पॉजिटिव केस आए हैं। अजमेर में कोरोना संक्रमण की औसत दर 20 चल रही है, लेकिन सोमवार को यह दर 6 प्रतिशत बढऩे के साथ प्रशासन में चिंता फैल गई है। कोरोना संक्रमितों की दर बढऩे के साथ सामुदायिक संक्रमण की रफ्तार भी और तेज हो सकती है।

रोग बढऩे की यह है वजह

अजमेर में संक्रमण की दर बढऩे की वजह संक्रमित मरीज के सभी परिजन की सैंपलिंग शुरू करना मानी जा रही है। संक्रमण नियंत्रण के लिए जिला प्रशासन के निर्देश पर चिकित्सा विभाग की टीमें संक्रमित के अलावा परिवार के सभी सदस्यों के सैंपल ले रही हैं। इनमें से अधिकतर परिवारों में सभी लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही है।

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned