गांव में कोरोना पॉजिटिव केस आने के बाद लगाया कर्फ्यू, मनरेगा के काम को भी तत्काल प्रभाव से रोका

गांव में एक 11 वर्षीय बालक की रिपोर्ट पॉजिटिव आ जाने के बाद क्षेत्र में कर्फ्यू लगा दिया गया है।

By: santosh

Published: 18 May 2020, 02:05 PM IST

अजमेर। राजस्थान में अजमेर जिला मुख्यालय से तीन किलोमीटर दूर ग्राम पंचायत रामपुरा डाबला अंतर्गत फतेहपुरा गांव में एक 11 वर्षीय बालक की रिपोर्ट पॉजिटिव आ जाने के बाद क्षेत्र में जहां कर्फ्यू लगा दिया गया है, वहीं मनरेगा के काम को भी तत्काल प्रभाव से रुकवा दिया गया है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की पहल पर श्रमिकों को रोजगार दिए जाने के क्रम में चलाए जा रहे मनरेगा काम को उपखंड अधिकारी समंदर सिंह भाटी ने फतेहपुरा व सेठन क्षेत्रों में रुकवा दिया है। काम रुकवाने के पीछे इस क्षेत्र में अहमदाबाद से लौटे 22 प्रवासियों में से बालक के केस के रूप में रविवार शाम को दूसरा पॉजिटिव आने के बाद उक्त कदम उठाया है।

सरकारी आदेशों पर फतेहपुरा तथा सेठन में एक दर्जन से ज्यादा चिकित्सा टीमें स्क्रीनिंग का काम कर रही है। क्षेत्र में बाहर से लौटे लोगों के कारण संक्रमण फैला है। 12 मई को पिकअप से 22 प्रवासी श्रमिक अहमदाबाद से लौटे थे जिनमें 13 अकेले फतेहपुरा क्षेत्र के थे। प्रभावित मरीजों को अजमेर रेफर किया गया है।

इधर, अजमेर संभाग की आज आई मेडिकल रिपोर्ट में अजमेर जिले से कोई नया पॉजिटिव सामने नहीं आया है जबकि भीलवाड़ा से कोरोना अचानक जिन्न के रूप में निकलकर सामने आया है। यहां 22 नए पोजिटिव मरीज उजागर हुए है। नागौर में दो तथा टोंक में एक भी मरीज सुबह सामने नहीं है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned