कोड से कन्फर्म होगी गैस सिलेंडर की डिलीवरी

डिजिटल इंडिया प्रोजेक्ट: -इण्डेन ने एक नवम्बर से अजमेर में भी लागू की डिजिटल रीफिल डिलीवरी कन्फर्मेशन तकनीक

-उपभोक्ता के रजिस्टर्ड मोबाईल नंबर पर पहुंचेगा डिजिटल ऑथेंंटिकेशन कोड, डिलीवरी बॉय को बताना होगा

By: manish Singh

Published: 16 Oct 2020, 11:02 PM IST

अजमेर. डिजिटल इंडिया प्रोजेक्ट में घरेलू गैस सिलेंडर की सप्लाई को ज्यादा पारदर्शी बनाने के लिए इंडियन ऑयल ने डिजिटल रीफिल डिलीवरी कन्फर्मेशन तकनीक विकसित की है। स्मार्टसिटी प्रोजेक्ट में चुने 100 शहरों में सबसे पहले जयपुर में प्रोजेक्ट को लागू करने के बाद अब अजमेर समेत उदयपुर व कोटा में शुरू किया गया है। आगामी एक नवम्बर से अजमेर में प्रोजेक्ट लागू किया जाएगा।

समय पर सुनिश्चित होगी सप्लाई

जानकारी के अनुसार केन्द्र सरकार के डिजिटल इंडिया प्रोजेक्ट में आगामी एक नवम्बर से अजमेर में एलपीजी के ग्राहक को गैस सिलेंडर की सप्लाई सुनिश्चित समय पर हो सकेगी। इसके तहत रीफिल बुकिंग के बाद एजेन्सी से कैश मेमो बनने के साथ ही ग्राहक को रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर पर इंडेन के 4 अंक का डीएसी (डिलीवरी ऑथेंटिकेशन कोड) एसएमएस से जारी हो जाएगा। ग्राहक को सिलेंडर लेते समय कोड डिलीवरी बॉय को बताना होगा। इससे सिलेंडर लेने की पुष्टि हो जाएगी।
सही उपभोक्ता को ही मिलेगा सिलेंडर

अजमेर जिले के एलपीजी ग्राहकों को योजना का सीधा लाभ मिलेगा। नई प्रणाली से ग्राहकों को परेशानी न हो इसके भी इंतजाम किए गए है। अगर ग्राहक के मोबाइल पर डीएसी नहीं आया तो वह गैसबॉय से आग्रह कर रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर या बुकिंग वाले मोबाइल नम्बर पर फिर से डीएसी प्राप्त कर सकेगा। अगर दोनों में से कोई भी मोबाइल उपलब्ध नहीं है तो ग्राहक अपना कोई भी अन्य मोबाइल नम्बर डिलीवरी बॉय को देकर रजिस्टर करवा सकेगा। इसके बाद डिलीवरी मैन इस नए नम्बर पर डीएसी भेजकर सिलेंडर की डिजिटल डिलीवरी की पुष्टि कर देगा।

ग्राहक लैंडलाइन फोन से या एजेन्सी पर जाकर मैन्युअल रीफिल बुकिंग कराता है तो ग्राहक के गैस एजेंसी पर रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर डीएसी आएगा। अन्य नंबर काम में लेने पर गैसबॉय नए रजिस्टर्ड मोबाइल नम्बर पर डीएसी भेजकर सिलेंडर की सप्लाई की पुष्टि कर देगा।
रहेगी ऑनलाइन नजर

अजमेर इंडेन के संचालक कमलेश मेवाड़ा ने बताया कि प्रोजेक्ट के अजमेर में लागू होने से एलपीजी उपभोक्ता की सप्लाई को लेकर होने वाली शिकायत का समाधान हो जाएगा। सिलेंडर की बुकिंग से लेकर डिलीवरी तक के प्रोसेस पर ऑन लाइन नजर रखी जा सकेगी।
इतने हैं फायदे

-एलपीजी सिलेंडर की सप्लाई में पारदर्शिता।

-सही ग्राहक को सप्लाई।
-सप्लाई अंतिम छोर तक सुनिश्चित।

-सप्लाई व्यवस्था में सुधार।
-उपभोक्ताओं की शिकायतों में कमी।

- मैसेज से डिलीवरी सुनिश्चित।
(जैसा आईओसी के अजमेर जोन के सेल्स ऑफिसर दिनेश कुमार ने बताया।)

manish Singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned