टकराव : विद्युत निगम के एईएन ने ज्ञापन फाड़ा, किसानों को धक्के देकर बाहर निकाला,माफी के बाद मामला शांत

रोही बीदासर रामदेवरा जीएसएस के पास खेतों में विद्युत पोल टूटने की शिकायत लेकर गए थे किसान, आपसी बातचीत में तकरार हुई तो एईएन ने तैश में आकर ज्ञापन के पन्ने फाड़ दिए, किसानों को धक्के देकर दफ्तर से बाहर करा दिया, विरोध में ग्रामीणों ने घेराव व प्रदर्शन कर जताया रोष, एईएन के माफी मांगने पर मामला हुआ शांत

By: suresh bharti

Published: 14 Sep 2020, 11:27 PM IST

अजमेर/चूरू. किसान अपनी हक की मांग को लेकर अफसरों के पास जाते हैं तो सही तरीके से सुनवाई नहीं होती। ऐसे में समस्याएं बनी रहती है। सरकारी अधिकरियों की मानसिकता ही ऐसी बन गई है कि किसान तो आए दिन किसी न किसी मांग को लेकर धरना-प्रदर्शन करते रहते हैं। इनका तो काम ही यही है।

दूसरी ओर बिजली, पानी, कर्जा,खाद-बीद व फसल खराबे सहित उफज के सही दाम की मांग करना जायज है। इसके बाद भी किसानों को समस्याओं से जूझना पड़ रहा है। अजमेर जिले में किसान महापंचायत से जुड़े किसानों ने कृषि उपज के उचित दाम दिलाने, कर्जा माफी,ऋण की प्रक्रिया को आसान बनाने सेहित कई मांगों को लेकर आंदोलन किया है। पिछले माह जिले के किसानों ने राजधानी जयपुर कूच भी किया,लेकिन उन्हें सीमा पर ही रोक लिया गया।

वाहन में रैली के रूप में उपखण्ड कार्यालय पहुंचे

इसी प्रकार चूरू जिले के बीदासर क्षेत्र के किसान खेतों में टूटे विद्युत पोल की शिकायत लेकर एईएन के पास गए थे, लेकिन आपसी बातचीत में विवाद हो गया। मामला तूल पकड़ा तो सहायक अभियंता ने किसानों का ज्ञापन फाड़ दिया। उत्तेजित किसानों को दफ्तर से बाहर निकाल दिया। बाद में गुस्साए किसानों ने प्रदर्शन कर दुव्र्यवहार के खिलाफ रोष जताया। बाद में आरोपी अफसर की ओर से माफी मांगने पर किसान शांत हुए।

विद्युत पोल टूटने की शिकायत

सोमवार को किसान बारिश व अंधड़ के चलते रोही बीदासर रामदेवरा जीएसएस के पास खेतों में विद्युत पोल टूटने की शिकायत करने गए थे। आरोप है कि जोधपुर डिस्कॉम के सहायक अभियंता ने शिकायत सुनने की बजाए ज्ञापन को फाड़ दिया। बाद किसान वाहन में रैली के रूप में बीदासर के मुख्य मार्गों से होते हुए उपखण्ड कार्यालय पहुंचे।करीब दो घंटे तक कार्यालय के बाहर धरना देकर विरोध जताया।

किसानों के साथ अन्याय

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता डॉ. विवेक माचरा ने कहा कि किसानों के साथ अन्याय हो रहा है। जोधपुर डिस्कॉम के अधिकारी किसानों पर वीसीआर भरकर अत्याचार कर रहे हंै। एसडीएम कार्यालय के बाहर धरना दे रहे किसानों से डिस्कॉम के अधिशाषी अभियंता धीराचंद शिवरान से वार्ता हुई। सहायक अभियंता ने अपनी गलती स्वीकार कर किसानों से माफी मांगी। तब जाकर मांमला शांत हुआ

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned