अवसाद : पहली पत्नी से तलाक, दूसरी ने छोड़ा तो लगा ली फांसी

सीआरपीएफ के जवान ने फांसी लगा दी जान

Manish Singh

January, 2808:51 AM

मनीष कुमार सिंह

अजमेर.
गुलाबबाड़ी क्षेत्र में सोमवार रात सीआरपीएफ के एक जवान ने संदिग्ध हालात में किराए के मकान में फांसी लगाकर जान दे दी। उसका शव कमरे में पंखे से लटका मिला।

अलवरगेट थाना पुलिस के अनुसार महाराष्ट्र निवासी शंकर डेंगे सीआरपीएफ ग्रुप केन्द्र प्रथम में तैनात था। वह अपनी दूसरी पत्नी के साथ गुलाबबाड़ी नाका मदार गली नम्बर 2 में किराए के मकान में रहता था। सोमवार शाम वह नशे की हालत में ड्यूटी से लौटा। रात 8.30 बजे पड़ोस में रहने वाले लोगों को शंकर के मकान से जलने की बदबू और धुआं उठता दिखाई दिया तो वह भीतर पहुंचे। कमरे में शंकर पंखे से फंदे पर लटका मिला जबकि रसोईघर में मीट पक रहा था। पड़ोसियों की सूचना पर अलवर गेट थानाप्रभारी मुकेश चौधरी घटनास्थल पर पहुंचे। पुलिस ने बारीकी से पड़ताल करने के बाद शव को फंदे से उतार जवाहरलाल नेहरू अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया। पुलिस ने संदिग्ध हालात में मृत्यु का मामला दर्ज किया है।

पहली पत्नी से तलाक
पड़ोसियों ने पुलिस को बताया कि शंकर सीआरपीएफ में डॉग स्क्वायड में ट्रेनर था। उसका पहली पत्नी से एक बेटा भी था लेकिन गत दिनों तलाक हो गया। पहली पत्नी बेटे को लेकर चली गई। इसके बाद शंकर ने एक अन्य महिला से दूसरा विवाह कर लिया।

अवसाद में था!
पुलिस की प्रारंभिक पड़ताल में सामने आया कि शंकर की दूसरी पत्नी का पहला पति गत दिनों गुलाबबाड़ी आ गया। वह उसके साथ चली गई। दूसरी पत्नी के छोड़ जाने से शंकर अवसाद में आ गया। पड़ोसियों के अनुसार अवसाद के चलते शंकर रात को कई मर्तबातेज आवाज में राष्ट्रगान व देशभक्ति गीत तक बजाने लगता था। इसको लेकर कई बार उसे क्षेत्रवासियों ने टोका भी था।

इनका कहना है...

सीआरपीएफ के जवान ने अवसाद में आकर आत्महत्या की है। आत्महत्या के कारणों की पड़ताल की जा रही है। प्रारंभिक पड़ताल में कई बाते सामने आई है। परिजन के पहुंचने पर वास्तविकता सामने आएगी। पुलिस मामले की पड़ताल में जुटी है।
-मुकेश चौधरी, थानाप्रभारी अलवर गेट

manish Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned