scriptEffort to resell treated water of STP | एसटीपी के ट्रीेटेड पानी को फिर बेचने की कवायद | Patrika News

एसटीपी के ट्रीेटेड पानी को फिर बेचने की कवायद

locationअजमेरPublished: Dec 30, 2023 11:04:08 pm

Submitted by:

Dilip Sharma

-सार्वजनिक पार्क व डिवाइडर के पौधे हो सींचने के लिए बनाई योजना -आनासागर एसटीपी से फिल्टर किए गए पानी का सदुपयोग - नए सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट से मिलेगा 7 लाख लीटर पानी

शहर के सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट में आ रहे गंदे नालों के पानी का उपयोग अब सिंचाई के लिए लिया जाएगा। अब तक पानी को साफ कर आनासागर झील में छोड़ा जाता था लेकिन अब इस पानी का उपयोग अन्य जरुरतों के लिए किया जाएगा।

एसटीपी के ट्रीेटेड  पानी को फिर बेचने की कवायद
एसटीपी के ट्रीेटेड पानी को फिर बेचने की कवायद
शहर के सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट में आ रहे गंदे नालों के पानी का उपयोग अब सिंचाई के लिए लिया जाएगा। अब तक पानी को साफ कर आनासागर झील में छोड़ा जाता था लेकिन अब इस पानी का उपयोग अन्य जरुरतों के लिए किया जाएगा। नगर निगम के अधीन आने वाले सार्वजनिक पार्क व मुख्य मार्गों के डिवाइडरों पर लगे पौधे या क्यारियों में ट्रीटेड वाटर का प्रयोग किया जाएगा।
सार्वजनिक पार्क व टॉयलेट की हो सकेगी सफाई

एसटीपी निर्माण करने वाली एजेंसी के साइट इंजीनियर अदनान सिद्दीकी ने बताया कि अब तक ट्रीटेड वाटर को आनासागर में ही डाल दिया जाता था लेकिन अब नए प्लांट के काम करने के बाद 7 लाख लीटर पानी प्रतिदिन मिलेगा। इस पानी का उपयोग पार्क में पेड़ों के पानी, डिवाइडर पर लगे पेड़ों तथा सार्वजनिक शौचालयों की सफाई के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकेगा। परिसर में ही 7 एमएलडी का नया सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट निर्माण किया जाना है। प्रथम चरण में पानी का एक उच्च जलाशय सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के लिए पंपिंग स्टेशन व टैंक निर्माण के लिए नींव खुदाई शुरू हो गई है। यह परियोजना 180 करोड़ की बताई गई है। इसे तैयार होने में करीब दो साल लगेंगे। इस पर 180 करोड़ रुपए खर्च आएगा। इसमें मेन पंपिंग स्टेशन, प्राइमेरी ट्रीटमेंट यूनिट, बॉयोलॉजिकल ट्रीटमेंट के लिए सिक्वेंसल बैच रिएक्टर, भवन, क्लोरिनेटर कक्ष व उच्च जलाशय के निर्माण होने हैं।20 एमएलडी हो जाएगी क्षमता
वर्तमान में आनासागर झील के पास रीजनल कॉलेज चौराहे पर बने 13 एमएलडी सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट पहले से ही संचालित है। नया 7 एमएलडी बनने के बाद क्षमता 20 एमएलडी हो जाएगी। निगम आयुक्त सुशील कुमार ने हाल ही में एसटीपी का दौरा किया था। उनके साथ अभियंता अरविंद यादव, ओम प्रकाश साहू सहित अन्य इंजीनियरों ने निर्माण कार्य की वस्तुस्थिति जानी।
पुरानी योजना के प्रति नहीं दिखाई रुचि

सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट के शुरू करने के साथ ही इसमें ट्रीट किए गए पानी को प्रति टैंकर 30 रुपए बेचा जाने की योजना बनाई। जिसमें आमजन टैंकर लेकर पहुंचता और 30 रुपए की रसीद कटवाने पर टैंकर भर दिया जाता, लेकिन कुछ समय बाद योजना फेल हो गई। लोगों ने रुचि नहीं दिखाई।

ट्रेंडिंग वीडियो