बिजली चोर बेकाबू,98 फीसदी तक बिजली चोरी

राजनीतिक दखलंदाजी और कर्मचारियों की मिलीभगत पड़ रही भारी

सुधार कार्यक्रम तथा अभियानों का असर नहीं

अजमेर डिस्कॉम

By: bhupendra singh

Updated: 25 Aug 2020, 09:57 PM IST

भूपेन्द्र सिंह

अजमेर.अजमेर विद्युत वितरण निगम ajmer discom विद्युत छीजत को काबू में लाने के लिए लगातार फीडर सुधार कार्यक्रम, फीडर रिनोवेशन, फीडर सेपरेशन सहित करोड़ों रूपए की योजनाएं चला रहा है। बिजली चोरी Electricity thief रोकने के सघन अभियान भी चलाया जा रहा है। इसके बावजूद निगम के 11 केवी के 60 फीडर एेसे हैं जहां छीजत व चोरी power theft बेकाबू है। रानीतिक दखलंदाजी तथा अभियंताओं व कर्मचारियों की मिलीभगत विद्युत तंत्र पर भारी पड़ रही है। इससे डिस्कॉम को प्रतिमाह लाखों रुपए का नुकसान उठाना पड़ रहा है। नागौर में कई फीडरों पर तो 97.61 प्रतिशत तक बिजली चोरी हो रही है। निगम के द्वारा हाल ही में बिजली चोरों के खिलाफ सघन अभियान चलाया तो चौंकाने वाले मामले सामने आए। कई जगह पर कई किलोमीटर तथा अवैध विद्युत लाइन खींची हुई तथा अवैध ट्रांसफार्मर पाए गई। इन्हें जब्त किया गया। यह विद्युत तार व ट्रांसफार्मर निगम के ही थे जिन्हें मिलीभगत कर कर्मचारियों बेच दिया था।

हाल ए नागौर

नागौर जिले के सब डिवीजन खींवसर के गांवरी फीडर पर 97.81 प्रतिशत तथा बजरंग फीडर पर 93.92 प्रतिशत बिजली चोरी हो रही है। मंूडवा सब डिवीजन के बालिया फीडर पर 93.29 प्रतिशत, मेड़ता ग्रामीण सब डिवीजन के रून कृषि फीडर पर बिजली चोरी 84.57 प्रतिशत तथा गोटन सब डिवीजन के शिव गांव फीडर पर 75.39 प्रतिशत बिजली चोरी हो रही है।चित्तौडग़ढ

फ़ीडर सोनियाना गांव पर छीजत 89.13 प्रतिशत है। जबकि संतखंड गांव 59.46,करजाली 57.9,डूगर में 44.78 तथा मंूझवा गांव42.35 छीजत प्रतिशत है।

उदयपुर

फीडर बिरोठी में 49.55 प्रतिशत,ओडा में 41.5, दांतेसर में 35.26,थाना 29.71 तथा बालिचा में 22.89 प्रतिशत छीजत है।

प्रतापगढ

फ़ीडर सकारा खेड़ी में 70.44 प्रतिशत छीजत है। चुपाना में 62.61, बड़ी सकाथली में 74.46, रावतपुरा में68.72 तथा लोधिया में 63.1 प्रतिशत छीजत है।

राजसमंद

फीडर बिकावासा में छीजत 48.०9, कोटेला में 44.53, कालाखेड़ी में 41.44, राज्यावास में 39.72 तथा बगाना में 39.19 प्रतिशत छीजत है।

डंूगरपुर

फीडर बालादीत पर छीजत48.32 प्रतिशत है। महिपालपुरा पर 43.6, शंकरगढ़ी पर ४२.४३ प्रतिशत, रामपुर ३९.३८ तथा सुराता फीडर पर छीजत ३७.८९ प्रतिशत है।

बांसवाड़ा

फीडर वंदना डोकेर पर छीजत ६८.८ प्रतिशत है। मदोकला माकन पर ५२.१६ प्रतिशत,मांगलिया देयेदा पर ४२.२,झाडस ३७.१ तथा खेड़ा वदलीपारा पर छीजत ३९.३८ प्रतिशत है।

सीकर

फीडर गोडवास पर छीजत ५३.२५ प्रतिशत है। बासरी पर ५७.९३, बल्लूवाली पर ७७.१४,रानासर पर ५२.९२ तथा जटवास पर छीजत ५८.८१ प्रतिशत है।

झुझुनूं

फीडर काकरा सिटी पर ६६.२२ प्रतिशत, बेरी फस्ट पर ६१.९५,घसीडा पर ५३.२५, सेहोद ५७.३७ तथा धोसी पर छीजत ४९.८९ प्रतिशत है।

भीलवाड़ा

फीडर हाजिया पर छीजत ४६.८६ प्रतिशत है। रासेद पर ४३.०९, आमल्दा पर ४८.६१,रागासपुरिया ४३.१५ तथा फतेहगढ़ पर छीजत ४३.१५ प्रतिशत है।

अजमेर सिटी

फीडर मायिया४५.८४ प्रतिशत छीजत है। केलावास६०.४४, मोतीसर ४७.५६, थोरिया पर ६७.२२ तथा ब्रिकचियावास पर छीजत ४० प्रतिशत है। अजमेर जिला

फीडर नोनांदपुरा पर छीजत ४१.७८ प्रतिशत है। रोडवास ३८.४७, नौलखा ५०.३९,मवासिया ४९.६१ तथा हनूतियाफीडर पर छीजत छीजत ४४.५ प्रतिशत है।

पकड़े 36 हजार बिजली चोर

अजमेर विद्युत वितरण निगम द्वारा बिजली चोरों के खिलाफ जारी अभियान में निगम ने इस वित्तीय वर्ष में अब तक पिछले 9 सप्ताह में 73 हजार 092 जगहों पर छापे मारे। इनमें 36 हजार 188 जगहों पर चोरी सामने आई। निगम ने इन चोरों पर 68.67 करोड़ रुपयों का निर्धारण किया है। सर्वाधिक बिजली चोरी नागौर में पकड़ी गई।

अब बिजली कटौती का फार्मूला

निगम के तहत आने वाले एेसे क्षेत्र जहां विद्युत छीजत अधिक हैं वहां बिजली कटौती की जाएगी। छीजत में कमी लाने के लिए यह फार्मूला निकाला गया है। निगम के ६० फीडर एेसे हैं जहां बिजली चोर बेकाबू है। इन फीडरों पर छीजत का लक्ष्य १५ प्रतिशत कम लाना होगा।

readmore:आरटीआई से बचने के लिए ठेकेदारों को ‘गोपनीय पत्र ’

bhupendra singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned