रौशन चौपाटी में नजर आया फर्जीवाड़ा!

अभियंताओं ने मनमर्जी से ही चौपाटी पर लगी लाइटों का पैटर्न बदला
दूधिया के स्थान पर लगाई पीली रोशनी वाली एलईडी लाईटें

पेनल्टी पर मौन, जिम्मेदार कौन. . .

स्मार्ट सिटी

By: bhupendra singh

Published: 17 Sep 2020, 07:20 AM IST


अजमेर.पुष्कर रोड विश्रामस्थली पर करोड़ों रुपए की लागत से बनी चौपाटी Chowpatty और पाथवे के डेढ़ साल बाद रौशन होने के साथ ही यहां लगाई गई लाइटों का फर्जीवाड़ा भी उजागर हो गया। स्मार्ट सिटी के अभियंताओं Engineers ने चौपाटी पर दूधिया के स्थान पर लगाई पीली रोशनी वाली एलईडी लाईटे लगा दीं। इससे आनासागर किनारे चौपाटी पर लगी लाइटों lightsका पैटर्न pattern ही बदल गया। इस बेकायदा बदलाव पर ना तो किसी की जिम्मेदारी तय की जा रही है और ना ही लाइटें शुरू करने में देरी पर ठेका फर्म के विरुद्ध जुर्माना लगाने की कोई कवायद नजर आ रही। जबकि गौरवपथ चौपाटी पर आरएसआरडी rsrdc ने दूधिया रोशनी वाली सजावटी एलईडी led लाइटें लगाई गई हैं। रीजनल कॉलेज चौपाटी पर एडीए ada ने भी यही पैटर्न अपनाया। जबकि स्मार्ट सिटी smart cityके तहत पुष्कर रोड pushkar rode पर लगभग 11 करोड़ रुपये खर्च कर बनाई गई 2 किमी लंबी विश्रामस्थली पर पीली रोशनी वाली सजावटी एलईडी लाइटें लगा दी गई। इन लाइटों से प्रकाश कम मिलता और विद्युत की खपत अधिक होती है।

बिना लाइट जले ही फरवरी 2020 में ही बताया कार्यपूर्ण

स्मार्ट सिटी ने अपने इस प्रोजेक्ट को फरवरी 2020 में ही पूरा बता दिया। करीब डेढ साल से आंखे मूंदे अभियंताओं ने बिना लाइट की जांच के ही कार्य को पूर्ण बताया दिया। जबकि लाइट के लिए फोटो मैट्रिक टेस्ट, ल्यूमिनस फ्लक्स टेस्ट करवाया जाना तो दूर की बात है। इस मनमर्जी के फेरबदल के बावजूद करीब डेढ़ साल तक लाइटें बंद पड़ी रहने पर काम में देरी के लिए ठेकेदार फर्म पर जुर्माना नहीं लगाया गया। लगाई गई लाइटों का गारंटी पीरियड भी निकल रहा है। कई लाइटें टूट चुकी हैं तो कई बिना जले ही खराब हो गई हैं, कुछ में पानी भरा हुआ है। लेकिन इस मुद्दे पर किसी की भी जवाबदेही तय नहीं की जा रही।

जंगली घास, चूहों की भरमार

पुष्कर रोड चौपाटी पर साफ-सफाई का अभाव है। पाथवे पर जगह-जगह जंगली घास उग आई है। चूहों ने जगह-जगह चौपाटी को खोद डाला है। एक बिल से दूसरे बिल तक चूहे दौड़ते नजर आते हैं।
लगाई बल्लियां

चौपाटी पर बैखौफ वाहन दौड़ा रहे लोगों को रोकने के लिए बुधवार को चौपाटी के प्रवेश द्वार पर बल्लियां लगाई गई जिससे वाहन अंदर नहीं घुस सकें। इस चौपाटी पर रीजनल कॉलेज चौपाटी की तरह गेट लगाए जाएंगे।

readmore:डेढ़ साल बाद रौशन हुई चौपाटी की लाइटें

bhupendra singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned