ब्यावर की महिलाएं बोली- महंगाई व अपराध पर अंकुश लगाएं,जिले की आस हो पूरी

प्री-बजट परिचर्चा : प्रदेश के आने वाले बजट से महिलाओं को कई उम्मीदें, चुनाव के समय किए वायदे निभाना जरूरी, विकास के नाम राजनीति करना गलत, ब्यावर को जिला बनाने की हो घोषणा

अजमेर/ब्यावर. महिलाएं किसी से कम नहीं है। उसकी योग्यता का लोहा सभी मान रहे हैं। सत्ता व प्रशासन के साथ-साथ बहादुरी व कारोबार संभालने में भी आधी आबादी ने अपनी क्षमता का बखूबी प्रदर्शन किया है। राजस्थान सरकार के आगामी बजट को लेकर ब्यावर में महिला टॉक-शो का आयोजन कराया गया तो यह विचार सामने आए।

प्रदेश के बजट से महिलाओं को काफी उम्मीदें है। बढ़ती महंगाई पर अंकुश लगाने के लिए कारगर कदम उठाने के साथ ब्यावर में महिला थाना खोलना जरूरी बताया गया। भंवरलाल गोठी पब्लिक स्कूल में राजस्थान पत्रिका की ओर से आयोजित महिला टॉक-शो के दौरान मेरी डेनियल, अंजलि भार्गव, ज्योति चौहान, रूचिका जैन, कनकदेवी और संतोष परिहार आदि ने खुलकर अपनी बात कही। उनका कहना रहा कि बजट में अगर सरकार शहर से जुड़ी घोषणाएं करती है तो हर वर्ग लाभान्वित होगा।

चिकित्सा सुविधा बेहतर हो : महिलाओं ने कहा कि अमृतकौर चिकित्सालय में मरीजों को बेहतर चिकित्सा सुविधा मिले, इसके लिए हॉस्पिटल के हालात में सुधर हो, चिकित्सक व स्टाफ के रिक्त पद भरे जाएं।

महिला सुरक्षा को हो पुख्ता : महिला सुरक्षा को पुख्ता करने के लिए न केवल सख्त कानून बनाए जाएं, बल्कि इनकी पालना भी सुनिश्चित हो। साथ ही ब्यावर में महिला थाने की स्थापना की जाए।

रोजगार के साधन बढे़: बजट में रोजगार के साधन बढाने के लिए भी नई योजनाओं की घोषणा हो। यहां पर बंद पड़ी महालक्ष्मी मिल को फिर से चालू की जाए। नए उद्योग धंधे विकसित हो।
जिले सहित अन्य घोषणा जरूरी : महिलाओं ने कहा कि शहर की वर्षों से मांग रही कि ब्यावर को जिला बनाया जाए। साथ ही शहर के विस्तार को देखते हुए समुचित एवं व्यवस्थित विकास के लिए यूआईटी की स्थापना की जानी चाहिए।

खुले कन्या महाविद्यालय : शहर के साथ ही आसपास के क्षेत्र से छात्र छात्राएं यहां पढऩे आते हैं। यहां पर एक सरकारी कॉलेज है। लेकिन सरकारी कन्या महाविद्यालय नहीं है। कन्या महाविद्यालय खोला जाना चाहिए।
पर्यटन की दृष्टि से विकसित हो : टॉक -शो में महिलाओं ने कहा कि ब्यावर में बिचड़ली तालाब का सौन्दर्यकरण किया जाए, ताकि यहां पर्यटन को बढ़ावा मिल सके। साथ ही टॉडगढ़ और अन्य क्षेत्र में भी पर्यटन को देखते हुए विकास काम हो।

शिक्षा की बेहतर व्यवस्था जरूरी : उच्च शिक्षा के लिए यहां केवल एक कॉलेज है, जबकि क्षेत्र बहुत बड़ा है। एेसे में यहां पर विधि महाविद्यालय, तकनीकी महाविद्यालय, बीएड कॉलेज आदि की भी स्थापना करनी चाहिए।
नए थाने की स्थापना हो : महिलाओं के अनुसार शहर में साकेतनगर पुलिस थाने का प्रस्ताव एक दशक पहले भिजवाया गया। इस प्रस्ताव पर अब तक मोहर नहीं लग सकी है। इसके अलावा यातायात थाने की भी मांग की जा रही है। इन मांगों को पूरा किया जाए।

suresh bharti Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned