प्रयास नाकाम : शराबबंदी का निर्णय तो हुआ नहीं, इसके पहले ही दो गुटों में लात-घूंसे चल गए...

शराब सेवन के खिलाफ लोगों में बढ़ी जागरुकता, अजमेर जिले के अंसरी गांव में शराबबंदी को लेकर हुई बैठक, सर्वसम्मति से निर्णय नहीं हो पाया, गुटबाजी के चलते विवाद बढ़ गया,पुलिस तक पहुंचा मामला

By: suresh bharti

Published: 19 Sep 2020, 12:00 AM IST

ajmer अजमेर. शराब सेवन का सब विरोध कर रहे हैं। इसके लिए महिलाएं व प्रबुद्ध लोग आगे भी आए हैं। इसके बावजूद सर्वसम्मति नहीं बन पा रही। गांव-ढाणी और सार्वजनिक स्थानों समेत सड़क किनारे दारू के ठिकाने खुल गए हैं।

कहीं लकड़ी की कबिन तो कहीं वैन और कार में देसी और अंग्रेजी शराब खूब बिक रही है। इसी शराब ने कई परिवारों को बर्बाद कर दिया। शराबबंदी को लेकर अजमेर जिले के अंसरी गांव में लोगों की चौपाल जुटी। इसमें अधिकतर लोग शराबबंदी के पक्ष में थे। इसकी अवेहलना करने पर सामाजिक जुर्माना,बहिष्कार सहित अन्य प्रावधान थे,लेकिन कुछ लोगों ने शराबबंदी का विरोध किया।

शराबबंदी के लिए आगे आएं लोग

अंसरी गांव में गुरुवार रात पंच-पटेल जुटे थे। सभी ने शराब सेवन की प्रवृत्ति बढऩे पर चिंता जताई। वक्ताओं ने कहा कि चाय-गुटका की तरह जगह-जगह शराब ठेके की दुकानें खुल गई है। नियम कायदों की कोई फिक्र नहीं कर रहा। युवकों में शराब सेवन की लत बढ़ रही है। विवाह समारोह व अन्य आयोजन में दारू पार्टी करना शान माना जा रहा है, जबकि यह सामाजिक बुराई है। शराबबंदी के लिए सामूहिक प्रयास जरूरी है। लोगों को आगे आना चाहिए।

दोनों पक्षों के लोग हुए चोटिल

अंसरी गांव में शराबबंदी को लेकर आयोजित बैठक में दो पक्षों के लोग झगड़ पड़े। हालात मारपीट तक जा पहुंची। इस दौरान लात-घूंसे चले। किसी ने गिरेबान पकड़ी तो कोई हाथ मरोड़ते दिखा। विरोधी धड़ा इतना हमलावर था कि उसने शराबबंदी के हिमायतियों के सिर के बाल पकड़कर खींच दिए तो शरीर पर घूंसे मारे। नतीजतन दोनों पक्षों के आधा दर्जन लोग घायल हो गए। शुक्रवार को मांगलियावास थाने में परस्पर मारपीट क मामले दर्ज कराए गए।

कहासुनी के बाद भिड़े

थानाप्रभारी रामचंद्र कुमावत के अनुसार अंसरी निवासी शैतान सिंह रावत ने प्राथमिकी दर्ज कराई कि गांव की हथाई पर शराबबंदी को लेकर बैठक चल रही थी। इस दौरान जमन सिंह ने मौके पर आकर शराबबंदी का विरोध किया। इस दौरान कहासुनी के बाद दोनों पक्ष आपस में भिड़ गए। आरोप है कि जमन सिंह, पवन, शिवराज, मोनू, शंकर, राम सिंह, नारायणी, पूजा, पांची, राम सिंह, सरोजना, सोनम ने गोपाल, सुरेंद्र, महेंद्र, पूजा के साथ मारपीट की, जिससे वह घायल हो गए।

सरोजनी बोली -पिता के साथ मारपीट

दूसरे पक्ष से पीडि़ता अंसरी निवासी सरोजनी ने आरोप लगाया कि शराबबंदी की बैठक के दौरान उसके पिता हथाई पर गए थे। वहां उनके साथ मारपीट की गई। चीख पुकार सुनकर वह मौके पर पहुंची। यहां गोपाल, नानू सिंह, छोटू, सुरेंद्र सिंह, महेंद्र, दिशा, पांचू, भागचंद, ज्ञानी, अविनाश, सेठु, केसर आदि ने उसके पिता के साथ मारपीट की। बहन सोनम और ताऊ लक्ष्मण सिंह ने बीच-बचाव किया तो आरोपियों ने उनके साथ भी मारपीट की। पुलिस ने परस्पर मारपीट का मामला दर्ज कर जांच आरंभ कर दी है।

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned