scriptFlirting with safety standards in elevated road construction | एलीवेटेड रोड निर्माण में सुरक्षा मानक ताक पर | Patrika News

एलीवेटेड रोड निर्माण में सुरक्षा मानक ताक पर

हादसे में पंजाब का जायरीन हुआ गंभीर घायल
कार हुई चकनाचूर

अजमेर

Updated: April 29, 2022 06:40:02 pm

अजमेर. दो साल की देरी से चल स्मार्ट सिटी के अंतर्गत निर्माणधीन एलीवेटेड रोड के हादसे में निरीक्षण की कमी सामने आई है। न तो स्मार्ट सिटी और न ही पीएमसी का ही कोई इ्ंजीनियर साइट पर नजर आता है। सुरक्ष्ा मानकों को दरकिनार कर काम किया जा रहा है। चेतावनी के बाेर्ड तक नदारद है। जबकि स्मार्ट सिटी की ओर से निर्माण कम्पनी को करीब 100 करोड़ रूपण एंडवासं के रूप में बिना काम के दिया जा चुका है। स्मार्ट सिटी के अभियंताओं की जिम्मेदारी है कि प्रोजेक्ट का निरीक्षण करते लेकिन वे एडवांस राशि देकर वाहवाही लूटने में लगे रहे।
आग और पानी गिरना आम बात
ajmer
ajmer
एलीवेटेड रोड निर्माण के वैल्डिग की चिंगारियां बीच सड़क पर गिरती रहती हैं। हाल ही एक माल वाहक वाहन पर वैल्डिग की चिंगारियां गिरने से उसमें रखा माल जलकर राख हो गया। कई कारें भी क्षतिग्रस्त हो चुकी है। ब्रिज निर्माण के कारण दिनभर सड़क पर पानी गिरता रहता है लोगों को मजबूरी में भीगते हुए इसके नीचे से गुजरना पड़ता है।
निर्माण में इस्तमाल हो रहे वाहन और मशीनरी सवालों के घेरे में

एलीवेटेड रोड निर्माण में इस्तेमाल मशीनरी तथा वाहन सवालों के घेरे में है। कई वाहनों के फिटनेस प्रमाण पत्र ही नहीं है। इसका नतीजा यह निकला कि गडर रखते समय खुद हाइड्रा मशीन ही गिर गई। इतना ही नहीं जहां भारत में दाएं हाथ की ड्राइविंग की मशीनें तथा वाहन बैन है लेकिन वह भी स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में इन्हें काम में लिया जा रहा है। एक मशीन पर तो नंबर प्लेट भी नहीं है। अभियंताओं की ठेकेदारों का गठजोड़ जनता को भारी पड़ रहा है।
कमी सुधारने के बजाय बताने वाले को ही हटा दिया

शहर वासियों के लिए यातायात को सुगम करने का स्मार्ट सिटी के सबसे बड़ा प्रोजेक्ट एलीवेटेड रोड है। स्मार्ट सिटी के अभियंताओं की देन है परियोजना पर सलाहकार कम्पनी पीएमसी पर 12:30 करोड़ रुपए का खर्चा करने बाद भी प्रोजेक्ट की मॉनिटर नहीं की गई। दो साल पूर्व केवल एक बार निरीक्षण किया गया जिसमें पूर्व में ही कमियों को उजागर कर दिया गया था। मगर स्मार्ट सिटी के अभियंताओं ने कमी सुधारने के बजाय बताने वाले टीम लीडर को ही रवाना कर दिया। सुरक्षा उपकरण केवल कागजों में ही सिमट कर रह गए।
7 दिन की जांच 20 दिन में भी पूर नहीं

एलीवेटेड रोड सहित स्मार्ट सिटी के अन्य बड़े प्रोजेक्टों की जांच के लिए जिला कलक्टर ने नगर निगम के मुख्य अभियंता के नेतृत्व में कमेटी गठित की है। कमेटी को अपनी रिपोर्ट 7 दिन में देने के निर्देश दिए गए थे लेकिन कम्पनी 20 दिन बाद भी अपनी रिपोर्ट नहीं दे सकी।
इनका कहना है

इस मामले में आरएसआरडीसी से रिपोर्ट मांगी गई है। क्या-क्या कमियां रहीं उसमें सुधार किया जाएगा। एफआईआर के निर्देश दिए गए हैं। इस तरह के हादसे की पुनरावृत्ति नहीं होनी चाहिए। कार्य को जल्द पूरा किया जाएगा।
अंश दीप, जिला कलक्टर एंव सीईओ स्मार्ट सिटी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

'मैं उन्हें गोली मारने को भी तैयार',पीसी जॉर्ज की पत्नी ने CM विजयन को दी खुलेआम धमकीAmravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या को पहले डकैती का एंगल दिया गया, इसकी जांच करवाएंगे- डिप्टी सीएमपंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान सोमवार को मंत्रिमंडल का करेंगे विस्तार, कई नए मंत्री ले सकते हैं शपथAmravati Murder Case: उमेश कोल्हे की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आई सामने- गर्दन पर चाकू का गहरा घाव, दिमाग व आखं की नस और खाने की नली डैमेजIND vs ENG: Jonny Bairstow ने भारत के खिलाफ जड़ा तूफानी शतक, बनाए कई महत्वपूर्ण रिकॉर्ड्सराजधानी में आधे दिन तक ही रहा प्रदेश बंद का असर, यात्रियों को हुई असुविधा, तो कहीं राशन के लिए भटके लोगMaharashtra: आरटीआई एक्ट का गलत फायदा उठाकर रंगदारी वसूलने के आरोप में 23 गिरफ्तार, पुलिस ने खोले बड़े राजसड़क पर उतरे लोग, बोले-हत्यारों को फांसी दो
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.